Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.1.08

मैंने शादी कर ली है

सभी पत्रकार भाइयों को अबरार अहमद का प्रणाम,
बडे हर्ष के साथ आप सबको मैं यह बताना चाहता हूँ ही अब मैं अकेले नही रहा। अब मेरे भी पैरों मे बेडियां पड़ गई हैं। भाइयों मैंने शादी कर ली है और आप सबके आशीर्वाद का इच्छुक हूँ।
अबरार अहमद
दैनिक भास्कर
ludhiana
http://hamarelafz.blogspot.com

5 comments:

यशवंत सिंह yashwant singh said...

अबरार भाई, शादी की ढेर सारी बधाइयां....जब लुधियाना आवेंगे तो आपसे मिठाई खावेंगे, अगर आप दिल्ली आवें तो जरूर मुंह मीठा करावें। भाभी जो सभी भड़ासियों की तरफ से शुभकामनाएं, जो आपको उन्होंने बेड़ियों में जकड़ दिया।
यशवंत

डा०रूपेश श्रीवास्तव said...

अबरार भाईजान,अस्सलाम अलैक़ुम
आपको ढेर सारी शुभकामनाएं ,लेकिन हम तो आपको खुश देखकर ही खुश हो लेंगे क्योंकि बचपन से सन्त कवि रहीम को पढ़ रहे हैं.....
"रहिमन ब्याह ब्याध है सकै तो लेओ बचाय पांयन बेड़ी पड़त है ढोल बजाय-बजाय"
ईश्वर आपको हर खुशी दे जो मुझे चाहिए है(और आपको भी)।
आदरणीय भाभीजान(मुझे तो आपा या बाजी कहना ही पसंद है)को भी लाख-लाख मुबारकबाद.....

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...

देखो इनकी पुलकित पलकें
कल कंधों पर चंचल अलकें"
मैं देख जिन्हें मतवाला हूँ
मैं ही मालिक-मधुशाला हूँ !
आप यही अहसास करें निरंतर
अनवरत शुभ कामनाएँ .....!!

alok said...

badhai ho miyan. mitai kab khila rahe ho. bhabhi ji ko dher sari badhai.

ओमप्रकाश तिवारी said...

ढेर सारी बधाइयां