Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

23.3.08

रंग कम हैं, चलो किसी दुबले पतले को रंगते हैं








Cartoons by Kirtish Bhatt

5 comments:

अबरार अहमद said...

मजा आ गया भाई साहब इस व्यंग होली का। बहुत खूब। होली के सब रंग समेट दिए आपने एक ही पोस्ट मे।

अबरार अहमद said...

मजा आ गया भाई साहब इस व्यंग होली का। बहुत खूब। होली के सब रंग समेट दिए आपने एक ही पोस्ट मे।

rakhshanda said...

bahut khoob hai...

डा०रूपेश श्रीवास्तव said...

दादा,मजा आ गया ,बड़े प्यारे और गहरे अर्थ लिये व्यंगचित्र हैं । कीर्तीश को साधुवाद...

गौरव मिश्रा (वाराणसी) said...

dada sab ki sab jandaar hai