Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.5.08

जिन युवा लेखकों को अपना पहला उपन्यास लिखना है वे गोदर गाँवा में आकर लिख सकते हैं


हाल ही में प्रगतिशील लेखक संघ का राष्ट्रीय सम्मेलन बेगुसराय के गोदर गांवा में संपन्न हुआ। अब उसी गाँव से एक प्रस्ताव प्राप्त हुआ कि जिन युवा लेखकों को अपना पहला उपन्यास लिखना है वे गोदर गाँवा में आकर लिख सकते हैं । अगर आप भी गाँव में बैठ कर अपना उपन्यास लिखना चाहते हैं तो सम्पर्क कर सकते हैं। सम्पर्क के लिए फ़ोन नम्बर +91-98291-90626 प्रेम चन्द गांधी अथवा राजेंद्र राजन से +919430885162 पर बात करें।
(यह ख़बर कवि प्रेमचंद गाँधी के सौजन्य से । गोदर गावां बिहार में है )

3 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

दादा,बैठ कर तो लिख लेंगे पर दाना-पानी चारा-भूसा और खोपड़ी के ऊपर छप्पर कौन जुगाड़ेगा? का ई सब मुफ़्फ़त रही के पइसा लै ले जाय पड़ी...

rajendra said...

prayas bahtar hai. doctor sahab ne jo sawal uthaye hai, unko najarandaj nahin kiya ja sakata.

रजनीश के झा said...

भाई ये है हमारा बिहार. गर्व से कहता हूँ वो मिथिला जहाँ "अतिथि देवो भवः" सर्वोपरि है और इसी जगह की नाजायज़ औलाद "कलुआ" . क्या करें जहाँ सपूत हैं वहीं कपूत भी. माँ मैथिली कलुआ को सद-बुध्हि दे.