Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.5.08

खरी - खोटी दोहों की जुबानी

- कुमार शैलेन्द्र

बजटें लोकलुभावनी, मौन हुई सरकार-
सस्ते वोटर झेलते महंगाई की मार।।

बाजारों से पूछ लो, चावल, आंटा, दाल-
बड़े-बड़े खरगोश भी चलते कछुआ चाल।।

चलती भ्रष्टाचार-पथ लोकतंत्र की रेल-
मजलूमों की चीख से कसती नहीं नकेल।।

आसमान छूने लगे, सब चीजों के दाम-
प्रजा नहीं कस पा रही, ढ़ीली भ्रष्ट लगाम।।

मल्टीनेशनल बुद्ध का लाया धन-पैगाम,
आमार सोनार बांग्ला रक्तिम नंदीग्राम।।

सात समंदर क्या यथा- दुखियारों के नैन,
मनमोहन की बंसरी छीन रही है चैन।।

राजनीति की नीचता, सभी एक ही रंग-
टप्पा खाती गिर रही, जनता कटी पतंग।।

यदि कोई भी चाहता, पूरा दाम वसूल-
जोधा अकबर की तरह दे दो फिल्मी तूल।।

संसद बहसों के लिए, रोजाना तैयार-
मगर एक को छोड़कर, मुद्दा 'भ्रष्टाचार'।।

4 comments:

नितिन व्यास said...

बहुत बढिया!

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

मिथिलेश भाई,साधुवाद आपको, आप तो साक्षात ही कबीर महाराज का भड़ासी अवतार प्रतीत हो रहे हैं...

VARUN ROY said...

मिथिलेश जी ,
कुमार शैलेन्द्र की कविता दमदार है. और की अपेक्षा है.
वरुण राय

रजनीश के झा said...

मिथिलेश जी,
धन्यवाद, और बहुत बहुत बधाई कुमार शैलेन्द्र को इस शानदार दोहों के लिए.