Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

Loading...

: जय भड़ास : दुनिया के सबसे बड़े हिंदी ब्लाग में आपका स्वागत है : 888 सदस्यों वाले इस कम्युनिटी ब्लाग पर प्रकाशित किसी रचना के लिए उसका लेखक स्वयं जिम्मेदार होगा : आप भी सदस्यता चाहते हैं तो मोबाइल नंबर, पता और प्रोफाइल yashwantdelhi@gmail.com पर मेल करें : जय भड़ास :

19.6.08

लखनऊ सहारा सिटी का कुछ हिस्सा ढहाया गया


एक निजी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी सरकार के आदेशों पर पुलिस व प्रशासन की मदद से सहारा सिटी का कुछ हिस्सा रातोंरात ढहा दिया गया। चैनल के मुताबिक इससे सहारा परिवार के साथ-साथ पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह को भी गहरा झटका लगा है। इस कार्रवाई को प्रशासन ने अतिक्रमण का नाम दिया है। इस तरह से अचानक हुइ रातोंरात कार्रवाई से सहारा सिटी के मास्टर प्लान के तहत आने वाली कंपाउंड में पड़ते करीब 30 मीटर चौड़ी जगह को गिरा दिया है। वहीं सहारा परिवार का कहना है कि यह कार्रवाई सरकार के प्रोजेक्ट अंबेडकर पार्क को गोमती नगर से जोड़ने के लिए किया गया है, जो कि सरासर गलत है। सहारा सिटी के जीएम के मुताबिक उसके पास कोर्ट के सारे कागजात मौजूद हैं। जिसमें कहा गया है कि इस जगह पर कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती है। इस अतिकमण की मुहिम से सहारा परिवार को तगड़ा झटका लगा है। यह सिटी लखनऊ के उन एरियों में शुमार की जाती है जहां बड़े-बड़े अफसर, नेता रहते हैं।

यह माना जाता है कि सहारा के सुबतो राय और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम के बीच नजदीकी के कारण इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। इससे पहले भी यूपी सरकार मुलायम के चहेतों पर गाज गिरा चुकी है। चाहे अमिताभ बच्चन हों या अंबानी परिवार। खैर चाहे कुछ भी हो सरकार की इस कार्रवाई से नजदीकी लोकसभा चुनावों को लेकर चुनावी सरगर्मियां और तेज होने की संभावना है। ऐसे में देखना है कि सहारा और उनके साथी कौन सा कदम उठाएंगे।

4 comments:

आलोक सिंह रघुंवंशी said...

यूपी में मुलायम और मायावती के बीच खटास जगजाहिर है। सहारा सिटी पर कार्रवाई यूपी सरकार के आदेश के बिना नहीं हो सकता। अपने छोटे से कार्यकाल में ही यूपी सरकार ने एक-एक करके मुलायम के सभी नजदीकियों को निशाना बनाया है और सभी में कामयाबी हासिल की है।

Anonymous said...

जो हुआ ठीक हुआ, जो होगा वह भी ठीक होगा। जो हुआ था वह गलत हुआ था।

Sanjay Sharma said...

मायावती सरेआम आँचल लहरा रही है .अनाम जी ,और अब जो होगा वो अच्छा नही होगा . दीवाल गिरी तो खुश है सरकार गिरे तो ? ताज की फाइल खुले तो ?

Sanjay Sharma said...

मायावती सरेआम आँचल लहरा रही है .अनाम जी ,और अब जो होगा वो अच्छा नही होगा . दीवाल गिरी तो खुश है सरकार गिरे तो ? ताज की फाइल खुले तो ?