Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

17.7.08

सुनाते अमर-कहानी

राइट-लेफ्ट कर रहे,बंधु गजब का ट्विस्ट
दागी सब बेदाग अब,स्वार्थसिद्धि है इष्ट ,

स्वार्थसिद्धि है इष्ट ,हुए सक्रिय अंबानी

लाल हुए क्यों लाल,सुनाते अमर-कहानी

2 comments:

P. C. Rampuria said...

बहुत सुंदर कवि वर ! यही तो हकीकत है !

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

Bhai,
Achhi abhivyakti hai.
Aapko badhai.