Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.8.08

भडास के मुख्य प्रवक्ता मनीष राज किए गए सम्मानित

भडास के मुख्य प्रवक्ता मनीष राज का सम्मान करते हुए श्री दानी प्रसाद
समारोह का उदघाटन दीप प्रज्ज्वलित करते हुए मुख्य अतिथि
बिहार प्रांतीय कुम्हार प्रजापति समन्वय समिति की राष्ट्रीय इकाई ने बेगुसराय नगर स्थित आयुर्वेदिक महाविद्यालय के प्रांगन में एक भव्य समारोह का आयोजन कर भडास के मुख्य प्रवक्ता मनीष राज को शॉल और प्रशस्ति सम्मान दे कर सम्मानित किया गया। श्री राज को यह सम्मान बेबाक पत्रकारिता और एक बच्चे की नृशंश हत्या के मामले के तह तक जाकर साहसिक पत्रकारिता के परिचय देने के लिए दिया गया। आयुर्वेदिक महाविद्यालय के परिसर में आयोजित इस कार्यक्रम के अवसर पर महामंत्री दानी प्रसाद , कोलकत्ता हाई कोर्ट के आधिवक्ता नारद जी , जिला पार्षद किशोर कुमार, संस्था के जिला अध्यक्ष इंजिनीअर कन्हाई पंडित , जिला के प्रख्यात चिकित्सक डाक्टर एस पंडित ,डाक्टर शशि प्रभा, डाक्टर अरविन्द कुमार के साथ अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
मनीष राज को ढेरो शुभकामनाये
संजीत कुमार(प्रधान जी डौट कॉम )

9 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

हार्दिक बधाई हो भाई मनीष....एक वर्चुअल आलिंगन स्वीकार करिये। इस सूचना के लिये धन्यवाद संजीत जी.....

GIRISH BILLORE MUKUL said...

badhaiyaan
sweekarie

मुकुंद said...

badhai.mukund

हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा said...

मुबारक़ हो मनीष भाई,आप पिछले दिनो काफ़ी व्यस्त रहे शायद,फाल्गुनी को मेरा प्यार...

मुनव्वर सुल्ताना said...

ढेर सारी शुभकामनाएं कि इसी तरह प्रगति और सम्मानों की पायदान दर पायदान ऊपर बढ़े चलिये,फाल्गुनी बिट्टो रानी को मेरी तरफ से खूब सारा कुच्चि कुच्चि कू.......

VIJAY said...

मनीष जी आपको बहुत बहुत बधाई ...आपने चरितार्थ कर दिया की प्रतिभा को छुपाया नहीं जा सकता है वो खुद ब खुद उजागर हो जाती है आप युही भडास और बेगुसराय का नाम रोशन करते रहे

विजय कुमार
बेगुसराय

VIJAY said...

मनीष जी आपको बहुत बहुत बधाई ...आपने चरितार्थ कर दिया की प्रतिभा को छुपाया नहीं जा सकता है वो खुद ब खुद उजागर हो जाती है आप युही भडास और बेगुसराय का नाम रोशन करते रहे

विजय कुमार
बेगुसराय

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

संजीत भाई,
आपको बहुत बहुत धन्यवाद, इस शानदार सुचना के लिए.
जब हम एक कवि सम्मलेन में यशवंत भाई के साथ मिले तो उनके साथ वाला शर्मीला सा लड़का देखा, पहले पहचाना ही नही बाद में दादा ने बताया की ये हैं हमारे मनीष राज क्रांतिकारी, सच में भैये छुपेरुस्तम हो.
एक आलिंगन और ढेरक बधाई.

SANJEET KUMAR said...

मनीष जी आपको बधाई
संजीत