Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

30.8.08

आपकी पार्टी,आपकी मर्जी

दुनिया भर में सम्मानित श्रीमती सोनिया गाँधी आप बहुत व्यस्त हैं। इसी कारण से राजस्थान के श्रीगंगानगर इलाके में आपकी पार्टी का सूरज फिलहाल अस्त है। इसका कारण है खेमे बंदी। कोई धन के दम पर टिकट मांग रहा है तो कोई काम के दम पर। राजस्थान में जितने गुट हैं उस से अदिक यहाँ दावेदार हैं। गत विधानसभा चुनाव में आपकी पार्टी के उम्मीदवार रिकॉर्ड वोटों से हारे थे। एक सीट पर तो ऐसा हुआ कि आपके उम्मीदवार को वोट उसकी हार के अन्तर से भी कम मिले। आपको तो शुक्र गुजार होना चाहिए बीजेपी के विधायकों का जिन्होंने अपने व्यवहार से आपकी पार्टी में कुछ उम्मीद डाल दी। यह उम्मीद तभी विधानसभा तक पहुंचेगी जब आपकी पार्टी के उम्मीदवार सही होंगे। यहाँ तो आपके नेता इस प्रकार एक दूसरे से खार खाते हैं जैसे आजकल श्रीमान बुश बेचारे मुशर्रफ से। आपको इस लिए कहना पड़ा क्योंकि आपके इस इलाके के लीडर इन्टरनेट के बारे में उतना ही जानतें हैं जितना आप उनके बारे में। वैसे जब भी कंप्यूटर का जिक्र होता है तो आपके सभी लीडर श्री राजीव गाँधी का यशोगान करते हैं। लेकिन इन्टरनेट पर कितने नेता कांग्रेस की साईट देखते हैं। ये तो मेल आई डी तक के बारे में नहीं जानते। आपके जितने प्रवेक्षक आए सब के सब गुट बाजी को और हवा दे गए। आप और आपके नेता ये सोच रहें होंगे कि मैं यह सब क्यों लिख रहा हूँ। बात ये कि मैं जर्नलिस्ट हूँ,मेरा काम है लिखनाकिसी पर असर हो तो ठीक न हो तो ठीक। पार्टी आपकी है इसलिए आप जानें आपका काम। हम तो उस बिरादरी से हैं जो सबकी चिंता करती है।

3 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

प्रभु,चिंता छोड़ दीजिये चिंता चिता से बढ़ कर होती है :)

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

मुनिवर,
कोंग्रेसी हैं क्या ? अरे प्रभु चिंता ही करनी है तो लोगों की कीजिये जिनकी ये चिता पर रोटी सेंकने को हमेशा तैयार रहते है. जागरूकता लोगों में डालिए की लोग पार्टी और पॉलिटिक्स से ऊपर बात सुनने और करने वाले का सहयोग करें.
जय जय भड़ास

Anonymous said...

sir jee logo kee hee chinta hai tabhee to soniya jee ko likha. kyonki main nahee chahta kee log baar baar aise leader ke changul me aayen jo janta se vote lekar unkee puchh nahee karte. puchh kya jeetane ke bad unko surat tak nahi dikhate. ab to kisi ka dog bhee mar jaye to shok prkat arne jate hai. bad me uska ghar bhul jate hai.