Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

17.8.08

बंधन और स्वतंत्रता के संयुक्त अवसर पर

एक ओर स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं हम ...
दूसरी ओर रक्षा बंधन ...
तो बंधन और स्वतंत्रता के संयुक्त अवसर पर चिंतन करें .
स्वतंत्रता के लिये हम जान देने को तैयार हैं फिर हमें आखिर बंधन अच्छा क्यो आर कैसे लगता है ....
उत्तर है हमें वह बंधन अच्छा लगता है जिसमें बहन का शा निश्छल प्यार हो , जिसमें रक्षा का संकल्प हो
तो ऐसे पाव पुनीत अवसर पर सभी मित्रों को बहुत बहुत बधाई , मंगलकामनायें
विवेक रंजन श्रीवास्तव
, जबलपुर

1 comment:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

विवक भाई,
आपको भी ढेरक बधाई.
जय जय भड़ास