Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.8.08

मेरठ प्रेस क्लब....

पत्रकार की मौत के बाद मेरठ प्रेस क्लब ने बनाया "मेरठ पत्रकार राहत कोष"

मेरठ के जाने माने पत्रकार साथी कमल वालिया की असामायिक मौत का सभी को दुःख है, लेकिन कमल वालिया को मेरठ की भूमि पर पत्रकार जगत में हमेशा याद किया जाता रहेगा... क्योकि राजनीति का अखाडा बन चुके मेरठ प्रेस क्लब ने एक अच्छी पहल करते हुए "मेरठ पत्रकार राहत कोष" खोलने की घोषणा की है, इस एकाउंट में जमा की गई धनराशि से ऐसे पत्रकार साथियो के आश्रित परिवारों की आर्थिक मदद की जायेगी जो दुर्भाग्य से अपने परिवार को मझधार में छोड़, ऊपर वाले के पास चले जाते है...
नाम नही खोलूँगा मगर इस सन्दर्भ में बुलाई गई पहली ही मीटिंग में आए सभी पत्रकारों ने दिल खोल कर इस कोष में धन सहयोग देने की घोषणा की, जो वाकई काबील ऐ तारीफ़ है,
इस योजना को चलाने में भड़ास पर करुणाकरण के लिए चलाये गए अभियान से भी खासी प्रेरणा मिली है जिसके लिए भड़ास को भी मैं नमन करता हु....
उम्मीद है मेरठ प्रेस क्लब इसी तरह के सकारात्मक कार्यक्रम चला कर पत्रकार जगत की भलाई के लिए लिया गया संकल्प पुरा करता रहेगा...
मैं गुजारिश करूँगा अपने सक्षम पत्रकार साथियो से की वो आगे आए और इस कार्यक्रम में सहयोग प्रदान करे...

2 comments:

manjuraj thakur said...

Shyam Ji,

Bura mat maniyega. Abhi Merath Patrakar Rahat Kosh ki ghoshna hui hai, Amal nahi. Hamare desh ka ye durbhagya hai ki har banda, society yaha ghoshna karti hai. Jis din Amal ho jaye us din ye Jang hamari hogi.

shyam parmar said...

thakur shaahab, pahle hi din is khaate me 50 hazaar aa gaye, ab ek laakh ho gaye hai jo peedit parivaar ko diye jaa rahe hai, ummeed hai shuruwaat me itna kam nahi hai...