Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

15.8.08

आज़ादी का एक रूप ये भी

कोई नही तुम्हे कुछ नही होगा बाबा जी ने अपने पास से थोडी भभूति दे दी। बाबा के पास इतना पैसा हर दिन जामा हो जाता है की उसे देखकर आप चौंक सकते हैं। वैसे बाबा पर लोगों को भरोसा इसलिए था क्यूंकि उनका आकर बहुत छोटा है और वो दीखते इंसानों जैसे हैं।

बाबा जी थोड़ा सा टाइम मुझे दे दीजिये बच्चा बहुत वीमार है। ये सब कुछ मैंने अयोध्या में देखा जहाँ पर इन दिनों सावन का मेला चल रहा है और देश के कोने कोने से यहाँ पर लाखों स्रधालु जमा हुए हैं।

थोडी देर बाद बाबा जी फिर से अपने काम में लग गए। बाबा की विशेषता ये है की वो मुस्किल से कुछ इंच के ही हैं। पर लोगों को लगता है वो उन्हें बहुत खुशियाँ अपने तपोबल से देंगे।






अरे ये क्या कर रहे हो मेरी तस्वीर मत छापना नही तो तुम्हे पाप लगेगा

1 comment:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

दोस्त,
ये आजादी का रूप नही है बल्की हमारे देश का आइना है, हम चाँद और सूरज पर चलें जाएँ, परमाणु सी बिजली बना लें मगर इन झोलाधारी के चंगुल से कभी मुक्त नही हो सकते क्या करें इनके रखवाले हमही तो हैं.
जय जय भड़ास