Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

31.8.08

ये पब्लिक है सब जानती है.....

हमारे देश में साक्षरता चाहे कम hओ....नेता चाहे कितने ही चालाक हो पर...ये पब्लिक है ना...सब जानती है ...८४ के दंगे हो या गोधरा काण्ड....पब्लिक सब जानती है....गुजरात के दंगों पर पूरे विशव में हल्ला मचता है...नरेन्द्र मोदी को अमेरिका का विज़ा नही मिलता.....पर कश्मीर से हजारों पंडितों को निकाल बहार किया जाता है...पर कोई ख़बर नहीं बनती...क्यूँ भाई क्यूँ...ये दोहरा मापदंड क्यों.....पकिस्तान में हिन्दुओं पर जुल्म होते है उनकी माँ maबहने उठा ली जाती है ....वो भारत से मदद की गुहार लागतें है पर सब बेकार....इधर २ मुस्लिम बम विस्फोट में पकडे जाते है तो प्रमुख समाचार बन जाता है क्यों....क्योंकि ये यहाँ का फैशन बन गया है....कश्मीर हमारे मुल्क का ज्यादातर बजट खा जाता है लेकिन गुणगान पाकिस्तान का ...क्यों भाई....ये सब नहीं चलेगा.....रजनीश परिहार,बीकानेर

5 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

Bilkul nahi chalega.

RAJNISH PARIHAR said...

thanx for ur comment.mere jaise nye blogger ke liye ye bahut hi jaroori hai.apna aashirvaad bnaye rakhenge...is aasha ke saath.....rajnish

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

भाई रजनीश,ऐसे ही धारदार पैने तीखे तेवरों के साथ लिखते रहिये, बहसियाते रहिये,मुद्दों को नतीजों तक पहुंचाते रहिये...

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

kahaan fas gaye ye desh aur is desh ke netaa musalmanon ke hiton ka to sochte hain shesh ke liye kahaa jata hai YE NAHIN CHLEGA...

उमेश कुमार said...

बिलकुल ठीक लिखा आपने लेकिन इसका कोई अर्थ निकलेगा यह सोचना गलत है।पूरे देश मे हिन्दू शुतुरमुर्ग की तरह सिर छुपाकर अपनी जिम्मेदारी से बच रहे है।हमारे काश्मीरी पंडित भाई पलायन कर दर दर की ठोकर खा रहे है।देवी देवता नंगे किये जा रहे है लेकिन हम मौन है। किसी की हिम्मत नही की इसका ठोस जवाब दे। यंहा भी बलिदानी पूतो की जरूरत है।