Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.9.08

फिर न दहले दिल्ली

  • हृदेश अग्रवाल
गत शनिवार को हुए आतंकी हमले से एक बार फिर दिल्ली दहल उठी, न जाने इन आतंकवादियों को रोकने के लिए केन्द्र सरकार कब सख्त कानून बनाएगी। न जानें कब होगा हमारे देष का उद्दार। सरकार को जल्द से जल्द कड़ा कानून बनाना ही पड़ेगा। सरकार या तो हमलावरों को तुरंत गोली मारने के आदेश दे या फिर इस देश की रक्षा के लिए यह कमान भारतीय सेना या रेपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के हवाले कर दे क्योंकि हमारे देश में आतंकियों को मुंह तोड़ जबाव देने के लिए तो पुलिस भी किसी से कम नहीं। पुलिस विभाग के आला अधिकारी और चंद नेताओं की वजह से पुलिस कुछ नहीं कर पाती। अगर पुलिस कुछ करना चाहती है तो उनके हाथों को बांध दिया जाता है या फिर उनका तबादला कर दिया जाता है। ऐसे में पुलिस क्या करे। चुनाव करीब आते ही सभी राजनीतिक दल एक-दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते हैं। विभिन्न राजनीतिक धर्म के नाम पर हिन्दु-मुस्लिमों की बलि चढ़ा रहे हैं लेकिन हम लोग अपनी आंखों पर पट्टी बांधे हुए उनके उत्तेजित भाषणों पर हम उत्तेजित होकर अपने ही भाईयों का गला काटने को जरा भी नहीं हिचकिचाते। आतंकवादियों से लड़ने के लिए सरकार क्या उठाए? हमारे देश के नेता या तो संसद, विधानसभा में हंगामा करते हैं या फिर एक-दूसरे नेताओं के पुतले जलाते हैं क्या आतंकवादियों से निपटने के लिए यही सही हैा जा सकता है नहीं....। आतंकियों से निपटने के लिए राजनीति छोड़ कानून बनाकर देश के हित के बारे में सोचना चाहिए। अक्टूबर माह के शुरूआत में ही दो त्यौहार हैं ईद और नवरात्र जो पूरे भारत में बड़े हर्षोल्लास से बनाए जाएंगे। जिस पर आतंकवाद भी निगाह रखेगा आतंकवाद हमारे त्यौहारों को खराब करने के लिए निगाह रखे उससे पहले हमारी सरकार को राजनीति छोड़ आतंकवाद की नाक में नकेल डालने के लिए तुरंत कुछ न कुछ उपाय करना होगा जिससे भारत में दोनों धर्मों के त्यौहार बड़ी धूमधाम व हषोल्लास मनाए और देश में अमन चैन की कामनाएं की जाएं।
इस पर एक शेर अर्ज है कि:
फानुस बनकर जिसकी हिफाज़त खुदा करे।
वो शमां क्या बुझेगी जिसे रोशन खुदा करे।।
किसी ने सही कहा है कि कोई भी आतंकी या आतंकवादी संगठन कितने ही हमले करें लेकिन भारत का कुछ नहीं बिगाड़ सकते क्योंकि उस भारत की रक्षा तो स्वयं भगवान और अल्लाह कर रहे हैं।

3 comments:

prakharhindutva said...

आप शायद छद्म धर्म निरपेक्षता के चश्मे से स्थिति को देख रहे हैं। आप जैसे लोगों के लिए हिंदू जागृति हेतु मैंने एक ब्लॉग का शुभारंभ किया है
ब्लॉग का पता है http://prakharhindu.blogspot.com/
यह एक ऐसा मंच है जिसके द्वारा हिन्दुओं में अपने धर्म के प्रति उत्साह और प्रेम का संचार होगा। इस ब्लॉग का एक उद्देश्य इस्लाम के चेहरे से शराफ़त का नक़ाब उतारना भी है। साथ ही साथ अपने भाइयों को ये चेताना भी है कि हमें अपनी मातृभूमि का उद्धार करने हेतु स्वयम् ही आगे आना पड़ेगा। कोई हमारी रक्षा के तब तक आगे लिए नहीं आएगा जब तक कि हम आत्मनिर्भर नहीं हो जाते।

नारदमुनि said...

sahi kha aapne aisa hee hona chahiye

नारदमुनि said...

sahi kha aapne aisa hee hona chahiye