Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.9.08

शोक के बहाने

--- चुटकी ----
मंत्री का मर गया कुत्ता
सूरत दिखाने के बहाने
शोक मनाने आए हजारों लोग,
एक दिन मंत्री जी चल बसे
अब कौन मनाये शोक?
----गोविन्द गोयल

3 comments:

amarpal singh verma said...

arse bad aapki "chutaki" padhne ka mauka mila. wo hi tevar-wo hi dhaar. maja aa gaya. lage raho govind bhai.

amarpal singh verma said...

arse bad aapki "chutaki" padhne ka mauka mila. wo hi tevar-wo hi dhaar. maja aa gaya. lage raho govind bhai.
-amarpal singh verma

bhoothnath said...

भाई,
कुत्ते भी इतने पागल थोड़े ही ना हैं कि मंत्रियों के मरने पर शोक मनाये,इनके मरने पर तो खुशिया मनानी चाहिए,मगर ये जात इतनी बेगैरत है कि इसको हमें जरा भी महत्व नहीं देना चाहिए,इनकी मातम्पुर्शी के लिए तो इनकी आत्मा को ही छोड़ देना चाहिए,मगर सो भी इनमे हो तो सही !!साले "......" कहीं के !!किसी पशु का नाम भी लूँ तो वह पशु को ही गाली हो जायेगी !!!!