Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.11.08

कोई अमर सिंह को मुंबई क्यों नहीं ले जाता, वो राज ठाकरे कहां है.........

यशवन्त भाई, मुंबई में कोई अमर सिंह (सपा नेता) को क्यों नहीं ले जा रहा है। कल को वो कहेगा कि एटीएस के आईजी हेमन्त करकरे को उनके साथियों ने ही गोली मार दिया है। जैसा की दिल्ली के बटाला हाउस सूटआउट में इंसपेक्टर शर्मा के शहीद होने के बाद उसने कहा था। वही क्यों, और भी बहुत कह रहे थे। वोट पर नजर गड़ाये रखने वाले वे सभी।
ये टीवी चैनल वाले भी केवल चीख रहे हैं। इतने मर गये, वे शहीद हो गये। उनके लिये भी ब्रेकिंग न्यूज हो जाती। यदि अमर सिंह मुठभेड़ को फर्जी करार दे दें। जैसा कि इस तरह की हर घटना के बाद वे करते हैं। भले ही अपनी टीआरपी बढ़ाने के लिये ही सही।
वह राज ठाकरे कहां गया। वह तो मुंबई में ही रहता है। उसके सबसे बड़े दुश्मन पूरबिहे हैं। अब उसकी क्यों फट रही है। घर में क्यों छिपा है। क्यों नहीं कहता, आमची मुंबई। मुंबई मराठी मानुष के लिये है। बोले, आतंकी उसकी मार देंगे।

यशवन्त भाई, हो सके तो इसे अपने भड़ास पर डाल दें ताकि मेरे जैसे लोग अपने सीने में दबी आग निकाल कर खुद को ठंढा कर सकें।

नवनीत प्रकाश त्रिपाठी
गोरखपुर, फोन नंबर 09415211230
navneetgkp@gmail.com

4 comments:

"अर्श" said...

इन लोगों के पास खेद ब्यक्त करने के सिवा कुछ नही है ,इनके पास बस रटी रटाई बात है जिसे खेद में ब्यक्त कर देते है हमेशा से ही एसा होता रहा है जब देलही में आतंक का साया मदराया और अपना कहर बरपा के गया तो कहा गया के देश की सुरक्षा सर्वोपरी है जिसे दुरुस्त करलिया जाएगा मगर ये बात सिर्फ़ कहने तक की है ....... हमें तो सिर्फ़ ख़ुद से ही लडाई लड़नी पड़ेगी.. इनपे कोई बहरोसा करना ख़ुद से बैमानी है ..... बस हमें एकजुट होके लड़ना है कोई साथ नही देने वाला इनके पास पेपर में बात लिखी होती है उसे वो जनता के पास और मिडिया के सामने कह देते है .......
खेद और दुःख के साथ ....

अर्श

विवेक राय said...

नवनीत भाई आपने ठीक ही कहा इन नेताओ की का एक ही रटा रटाया जवाब आएगा सुनकर कान पक गए ..अब अमर सिंह का कोई पता नही चलेगा और न ही ठाकरे का पता चलेगा..ये घर के सामने ही शेर बनते है निहात्तो पर ही हमला करते है...तीन दिन बीत गए न तो राज का कोई बयां आया और न ही बाल ठाकरे का कोई जवाब ...राज को शायद अ\ये अहसास हो गया है की मुंबई मेरी नही आतंकवादियों की हो गई है आर राज और राज के गुर्गो में हिम्मत नही की आतंकवादियों से मुकाबला कर ले ....

Anonymous said...

aaj maharastra ka home minister kaha hai jisne rahul raj ke maut ke bad kaha tha goli ka jabab goli dega to aaj kyo unki dhoti gili ho gayi ya muslim vote bank chala jayaga ya phir pisab ho gaya jo aaj to kutte ke mut me dub marna chaiye...

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

भाई,
ये हिन्दुस्तान है, सबका देश.
यहाँ पृथ्वीराज भी हुए और जयचंद भी, छाप चोरने वालों को लोग आज भी याद करते हैं, हम क्यों राज जैसी विकृत मानसिकता का परिचय दें, अंत में हमारी सभ्यता और हमारी संस्कृती ही हमारी परिचायक बनेगी,
सर्व धर्म समभाव,
वसुधैव कुटुम्बकम,
अतिथि देवो भव:

बस हमें भारतीयता को निभाना है.

जय जय भड़ास