Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

15.1.09

स्वामी रामानन्द

स्वामी रामानन्द का जन्म 1299ई. में माघकृष्णसप्तमी को प्रयाग में हुआ था। यज्ञोपवीत संस्कार के उपरान्त वे प्रयाग से काशी चले आए और गंगा के किनारे पंचगंगाघाट पर स्थायी रूप से निवास करने लगे। इनके गुरु स्वामी राघवानन्द थे जो रामानुज (अचारी) संप्रदाय के ख्यातिलब्ध संत थे। स्वामी राघवानन्द हिन्दी भाषा में भक्तिपरककाव्य रचना करते थे। स्वामी रामानन्द को रामभक्तिगुरुपरंपरासे मिली। हिंदी भाषा में लेखन की प्रेरणा उन्हें गुरुकृपासे प्राप्त हुई। पंचगंगाघाटपर रहते हुए स्वामी रामानुज ने रामभक्तिकी साधना के साथ-साथ उसका प्रचार और प्रसार भी किया। स्वामी रामानन्द ने जिस भक्ति-धारा का प्रवर्तन किया, वह रामानुजीपरंपरा से कई दृष्टियोंसे भिन्न थी। रामानुजीसंप्रदाय में इष्टदेव के रूप में लक्ष्मीनारायण की पूजा होती है। स्वामी रामानन्द ने लक्ष्मीनारायण के स्थान पर सीता और राम को इष्टदेव के आसन पर प्रतिष्ठित किया। नए इष्टदेव के साथ ही स्वामी रामानन्द ने रामानुजीसंप्रदाय से अलग एक षडक्षरमंत्र की रचना की। यह मंत्र है- रांरामायनम:। इष्टदेव और षडक्षरमंत्र के अतिरिक्त स्वामी रामानन्द ने इष्टोपासनापद्धतिमें भी परिवर्तन किया। स्वामी रामानन्द ने रामानुजीतिलक से भिन्न नए ऊ‌र्ध्वपुण्डतिलक की अभिरचनाकी। इन भिन्नताओंके कारण स्वामी रामानन्द द्वारा प्रवर्तित भक्तिधाराको रामानुजीसंप्रदाय से भिन्न मान्यता मिलने लगी। रामानुजीऔर रामानन्दी संप्रदाय क्रमश:अचारीऔर रामावत नाम से जाने जाने लगे। रामानुजीतिलक की भांति रामानन्दी तिलक भी ललाट के अतिरिक्त देह के ग्यारह अन्य भागों पर लगाया जाता है।

1 comment:

jayram said...

mahoday aapko dhanwad ki yaha bhi aap jaise log aitihasik prerna purushon ko yad karte rahte hain.
gagadguru swami ramanandacharya ki itni sanchhipt aur adhuri jankari ki ummid nahi thi . halanki unke wyaktitw ko shabdo mai bandhna kathin hai .. par koshish honi chahiye . a
ek aur baat aage se jab bhi aise mahapurushobn par likhe to unke shishya parampara ke logon , anuyayi, utradhikariyon aadi ki samiksha bhi karen to lekh sarthak hoga aur samaj ko nai dishi bhi milegi.
ramanadachary ho ya shankaracharya aaj unki gaddi par baithne ke liye warchasw ki ladai ho rahi. shankarachary ke 4 pithon tatha ramanandachary ke ek pith ki jagah desh bhar main karib 100 se adhik pakhandi inki gaddi ka waris bane baithe hai. upar ki rajniti, udyogpatiyo ki dalali se lekar anek anaitik kam inka pesha hai ... jo ramanandji ki parampara nahi ...........