Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

21.5.09

कोमल मिल गई!!

अंकित माथुर

आदरणीय ब्लागर बन्धुओं आप सभी की सकारात्मक प्रतिक्रियाओं एवं आपकी संवेदनशीलता का मैं हार्दिक अभिनंदन करता हूं।
आप सभी की शुभकामनाओं के फ़लस्वरूप कोमल आज अपने परिवारीजनों के साथ है।
अपनी गुमशुदगी के तकरीबन २० दिन के बाद, पुलिस,  एस टी एफ़ तथा परिवार के प्रयासों से कोमल मिल गई है।
आप सभी का हार्दिक धन्यवाद।
यशवंत भाई का मै तहेदिल से शुक्र गुज़ार हूं कि उन्होने अपने ब्लाग पर इस सार्वजनिक एवं जन हित में जारी सूचना को सर्वोपरि रखते हुए भड़ास के सकारात्मक रुख को सभी के सामने प्रस्तुत किया है। 
उनके द्वारा इस पोस्ट को प्रमुखता से शीर्ष पर रखना इसी ओर इंगित करता है कि दुनिया के सबसे बड़े हिन्दी ब्लाग भड़ास  पर किसी भी प्रकार से पीडि़त व व्यथित व्यक्ति की आवाज़ को प्रमुखता से एक देश व्यापी अभियान की तरह दिशा दी जाती है।

धन्यवाद
जय भड़ास
अंकित माथुर

6 comments:

RAJNISH PARIHAR said...

kahan aur kse mili..btate to jigyasa shant ho jati...!khair hardik badhaai...

Deepak said...

Rajnish sahi kah rahe hai...Sachchi Ghatna Batayen taki baki log Satark Rahen.

AlbelaKhatri.com said...

chalo achha hua
ghar k log ghar pahunch jayen toh sukoon mil jata hai
BADHAI

SAVDHAN:AB MAT GUM HONE DENA

संगीता पुरी said...

बधाई आपलोगों को .. और जानकारी के लिए चित्र पर क्लिक किया है ।

pankaj vyas said...

bhadhai sabako.

यशवंत सिंह yashwant singh said...

अच्छी खबर दी आपने अंकित भाई। आपकी सक्रियता और हम सभी की दुवाएं काम आईं।
आभार
यशवंत