Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.5.09

हिम्‍मत है तो आस्ट्रिया में जाकर आग लगाओ

अमेरिका में एक हिंदू की हत्‍या कर दी गई, आस्‍ट्रेलिया में सिखों पर कहर बरपाया, आस्ट्रिया में झडप में एक सिख गुरू की मौत। इस खबर को सुनते ही हमारे प्‍यारे देशवासी अपने घरों से निकले ट्रेनें फूंक दीं। पटरियां उखाड दीं। कारों में आग लगा दिया। पुलिस की गाडियों को फूंक दिया। रास्‍ते जाम कर दिए। जितना हो सका अपने देश की प्रापर्टी को फूंक दिया जिससे बाहर देश के लोगों को पता चले कि अगर तुम हमारे आदमियों पर बुरी नजर डालोगे तो हम अपने देश को ऐसे ही बर्बाद करेंगे। आज सुबह पंजाब में जिस तरह से लोगों ने अपने देश की प्रापर्टी को नुकसान पहुंचाया इससे क्‍या उन सिख गुरू को न्याय मिल पाया जो इस घटना का शिकार हुए थे। अगर किसी में दम है तो यह काम जो आज भारत माता को जलाकर किया जा रहा है यही आस्ट्रिया में होना चाहिए था। पर वहां की खुंदक अपने देश पर उतारकर सिर्फ एक मूर्खता की मिशाल पेश कर रहे हैं हमारे देशवासी। बसें जल जाएंगी तो कल से लोगों को चलने में दिक्‍कत होगी। ट्रेनें नहीं रहेंगी तो यात्रा कैसे करोगे। शहर फूंक दोगे तो उसे व्‍यवस्थित कौन करवाएगा। आज आप जोश में आकर अपने देश को उजाड रहे हो कल जब पानी की कमी होगी, परिवहन के साधन नहीं होंगे, सडकें तालाब का रूप ले लेंगी। तो एक बार आप के दिल में सरकार के प्रति रोष पनपेगा और आप इसे सरकार के उपर थोपकर पिफर अपने ही देश को तोडोगे। मुझे लगता है अगर धर्म के नाम पर लोग सरकारी प्रापर्टी जो कि हमारी ही है उसको नुकसान पहुंचाना बंद कर दें तो हमें बहुत सी समस्‍याओं से निजात मिल जाएगी। आज जिस घटना पर पंजाब जल रहा है उसमें पंजाब का कोई दोष नहीं है दोषी तो वे हैं जो यह क्रत्‍य कर रहे हैं। इससे उन पवित्र संत रामानंद जी की आत्‍मा को भी ठेस लगेगी। क्‍योंकि कोई भी संत उग्रवाद का पाठ नहीं पढाता। भाई जब पंजाब की इसमें कोई गलती नहीं तो उसे बर्बाद क्‍यों कर रहे हो? अगर कुछ करना ही तो चलो आष्‍ट्रिया चलते हैं और उसका अस्तित्‍व मिटाते हैं क्‍योंकि वहां हमारे संत पर हमला हुआ है। पर किसी को भारत माता को नुकसान पहुंचाने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसा कोई भी दुनिया का मुल्‍क नहीं करता। अरे हम पर दुनिया हंस रही होगी और हमें पागल कह रही होगी कि देखो घटना कहीं घटी और आग कहीं और लग रही है। भाई अपने आप को संभालो और अपना देश बचा लो।
जय हिंद जय भारत

5 comments:

AlbelaKhatri.com said...

jiyo jiyo
bahut khoob
badhai!!!!!!

Style Guru said...

bhut achha lika hai apne, agar hmare desh ki janta itni samajh dar hoti to aaj hamara desh sach ma tarkki kar raha hota. ek vo bhagat singh the jinhone apna badla angrejo se unki asembli ma bum fank kar liya tha or ek yeh hai jo apna badla apna ghar funk kar le rahe hai.
Pardeep verma

Anonymous said...

is baare me tensionpoint.blogspot.com par panjaab vaalon ki bahaduri ki prasansa ki gayi hai.jarur dekhen.

satyandra said...

mai aapki bat se sahmat hoon.... kai dino se mai isi subject par vichar kar rha tha ki aakhirkar kyon aisa hota hai ki agar dusare deshon mai koi bat hoti hai to hamare desh me itni badsurat reaction kyo hoti hai..... ye log kya dikhana chahte hai.... bharat to khud kuchh dharmandh logo se pidit hai...mujhe to kuchh samajh me nhi aa rha hai ki kaise log itna ugra ho jate hain.....

अमित द्विवेदी said...

but yaar aise logon ko tabhi sudhara ja sakta hai jab tofod karne wale kuch logon ko fansi par latka diyaa jaye. kuch din me log darne lagenge aur ye sab band ho jayegaa. isse to logon ka man badhta hee jaa rahaa hai