Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

20.7.09

हम तो भई जैसे है, वैसे रहेंगे

अरविन्द शर्मा

बदले या नहीं बदले, दूसरों को बदलने की जिद हर किसी पर सवार है। मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। कुछ लोग मुझे बदलने के लिए हर संभव कोशिश....

read more on apkikhabar.blogspot.com

2 comments:

shantanu said...

जनाब, आप जैसे हैं वैसे ही रहें. दूसरों के प्रयासों को विफल करतें रहें और अपनी मौलिकता बनाये रखें.

cmpershad said...

हम को बदल सके ये ज़माने में दम नहीं
हम से है ज़माना, ज़माने से हम नहीं:)