Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

13.7.09

इसे आप तिरंगे का अपमान मानेंगे या नहीं?


14 जुलाई को फ्रांस में नेशनल डे परेड है। वहां रिहर्सल के दौरान फ्रांसीसी सेना के एक जवान ने भारतीय झंडे के एक कोने को अपने बूट के तले दबा रखा है। इसे क्या आप उचित मानेंगे या अनुचित? क्या यह भारती तिरंग का अपमान नहीं है? मुझे पहली नजर में यही लगता है कि यह गलत है। यह तस्वीर एक मशहूर एजेंसी ने जारी की है लेकिन इसे भारतीय मीडिया में स्थान नहीं मिला। आप क्यों सोचते हैं इस बारे में? हालांकि जिस जवान ने अपने बूट के तले तिरंगे के एक कोने को दबा रखा है, उसके चेहरे की मासूमियत देखकर समझ में आ रहा है कि उसने यह अनजाने में किया है। फिर भी, उसे इतना तो पता होना चाहिए कि किसी देश के झंडे को पैर के तले दबाना अपमान होता है।

11 comments:

अबयज़ ख़ान said...

बिल्कुल, ये तिरंगे के साथ ही भारत का भी अपमान है। सरकार को इस मामले में फ्रांस से विरोध दर्ज़ कराना चाहिए। और इस मामले में दोषी लोगों पर कार्रवा के लिए दबाव बनाना चाहिए।

अबयज़ ख़ान said...

बिल्कुल, ये तिरंगे के सात ही भारत का भी अपमान है। सरकार को इस मामले में फ्रांस से विरोध दर्ज़ कराना चाहिए। साथ ही इस मामले में दोषियों पर कड़ी कार्रवाई का दबाव भी बनाना चाहिए।

Pankaj Dixit said...

yashwant ji ise dainik jagran ne U.P. me front page ki banner khabar banaya tha. France vale ya agency vale to galti kar gaye, magar Bharat ke sabse bade hindi dainik akhbar Dainik Jagran ne Ise kyun Cchapa- Ye hai Yaksh Prashn!
Photo Release karne vale aur khichaane vale se bade doshi hai Ise Cchaapne Vale.
Pankaj Dixit

vinay bihari singh said...

बिल्कुल, यह तिरंगे का अपमान है। फ्रांस को इसके लिए क्षमा मांगनी चाहिए।

विकास said...

lo bhai france mango mafi...
us sainik se galti ho gai...
vo nahi janta tha ki ye duniya ka sbse bada loktantrik desh bharat hai jahan ka bachcha bachha apne desh se bahut hi peyar karata hai.
us sainik ko nahi malim tha ki is desh ke log sab kuchh bardast kar sakte hain lekin tiranga ka apman kabhi nahi vo nahi janata tha ki ham
tirnga ke saamne ghus ki rakam shuk se le sakte hain, vo nahi janat thaa ki yahn ke sipahi aur polis ka har ke javan jo tiranga ke kasam khata hai vo ladkionn ka balatkar kar kr maar deta hai.
nirdos ko mar k use atnkvaadi bata deta sakat hai aur ye sb tirngga ka apman nahi hai.

अरविन्द शर्मा said...

yaswant ji,

sarkar ki ankhe khule to bat bane.

apkikhabar.blogspot.com

संजय बेंगाणी said...

राष्ट्रध्वज के लिए नियम कायदे बने हुए हैं, यहाँ उनका उल्लघंन हुआ है. आपत्तिजनक है.

dev said...

bilkul ye desh ke sath hum logo ka aapman hai . goverment should take legal action aganist this

vikas tripathi said...

vaise to yah anjane me hua he lakin phir bhi iske liye france ko sorry feel karna chahiye tha.

shankarfulara@gmail.com said...

bhartiy midiya vaale rakhi savant ka svayambar dikhane me kamayi kar rahe hain is nyuj ko dikhane me kitna kamate ? han saniya mirja ya tendulkar ne aisa apmaan kiya hota to jarur surkhiyan banate.

गौरव मिश्रा (वाराणसी) said...

france..........apni ookaat me rahe......jay hind,,,,i love my india