Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.9.09

छत्रधर महतो की गि‍रफतारी और बुद्धि‍जीवि‍यों की भूमि‍का

लालगढ मूलत: हमारी समग्र वामपंथी राजनीति‍ का सबसे वि‍द्रूप चेहरा है। लालगढ प्रसंग बेहद दर्दनाक और बहशी प्रसंग हैं। माओवादि‍यों के हाथ 200 से ज्‍यादा नि‍र्दोष ग्रामीणों,आदि‍वासि‍यों और राजनीति‍क कार्यकर्त्‍ताओं की नृशंस हत्‍या के खून से रंगे हैं। छत्रधर महतो और उनके साथि‍यों के ऊपर प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष रूप में इन हत्‍याओं की जि‍म्‍मेदारी आती है। महाश्‍वेता देवी से लेकर जयगोस्‍वामी तक जि‍न लोगों ने छत्रधर महतो की गि‍रुफतारी का वि‍रोध कि‍या है। उल्‍लेखनीय लोकसभा चुनाव के बाद लालगढ में नि‍र्दोष ग्रामीणों की माओवादी खुलेआम हत्‍या कर रहे हैं। पुलि‍स प्रशासन का नि‍कम्‍मापन साबि‍त हुआ है। माकपा के लोगों ने जब भी नि‍र्दोष लोगों पर हमले कि‍ए हैं हमने उसका प्रति‍वाद कि‍या है। उसके खि‍लाफ लि‍खा भी है। आज अचानक मीडि‍या के एक ग्रुप और महाश्‍वेता देवी बगैरह के साथ के बुद्धि‍जीवि‍यों के द्वारा माकपा के खि‍लाफ वि‍रोध व्‍यक्‍त करने के नाम पर माओवादि‍यों के द्वारा की जा रही हत्‍याओं की जि‍स बेश्‍ार्मी के साथ हि‍मायत की जा रही है,उसकी मि‍साल भारत के इति‍हास में मि‍लनी असंभव है। लालगढ में मूल मसला अब वह नहीं है जो इस इलाके में केन्‍द्रीय सरकार के द्वारा अर्द्धसैनि‍कबलों के भेजे जाने के पहले था। इस प्रसंग में पहली बात यह कि‍ छत्रधर महतो की गि‍रफ्तारी सही कदम है।आश्‍चर्य की बात यह है कि‍ पुलि‍स ने उसे अब तक गि‍रफ्तार क्‍यों नहीं कि‍या ? नयी बदली परि‍स्‍थि‍ति‍यों में माओवादी हिंसाचार और छत्रधर महतो के नेतृत्‍व वाली पुलि‍स जुल्‍म वि‍रोधी कमेटी मूलत: अपराधी और हत्‍यारे गि‍रोह के रूप में परि‍णत हो चुकी है। जि‍स तरह माफि‍या गि‍रोह सुपारी लेकर हत्‍याएं करते हैं, ठीक वैसे ही वे माकपा के कार्यर्त्‍ताओं की वेवजह हत्‍याएं कर रहे हैं। आज की ति‍थि‍ में लालगढ में कोई राजनीति‍क वि‍वाद या टकराव जैसी चीज नहीं है। सीधे इलाका दखल की जंग चल रही है। यह जंग माओवादी और छत्रधर महतो के संगी-साथी लड रहे हैं। यह सच है कि‍ लालगढ इलाके की वि‍गत 35 सालों में जबर्दस्‍त उपेक्षा हुई है, लेकि‍न इसका यह अर्थ नहीं है कि‍ लोग हथि‍यार उठाकर एक-दूसरे की जान के प्‍यासे हो जाएं। गरीबी और अभाव को हिंसाचार का बहाना बनाकर हिंसा को वैधता प्रदान नहीं की जा सकती।
उल्‍लेखनीय है वि‍गत बीस सालों से भी ज्‍यादा समय से इस इलाके की वि‍भि‍न्‍न स्‍थानीय संस्‍थाओं जैसे पंचायत वगैरह पर गैर माकपाई राजनीति‍क दलों का कब्‍जा रहा है। इसके बावजूद माकपा और वामपंथी दलों को इस इलाके की उपेक्षा के लि‍ए माफ नहीं कि‍या जा सकता। छत्रधर महतो के पकडे जाने की पद्धति‍ पर सवाल उठाए जा रहे हैं और दुर्भाग्‍य से ये सवाल मानवाधि‍कार संगठनों और बुद्धि‍जीवि‍यों ने उठाए हैं। उन्‍होंने कलकत्‍ते में दशहरे के मौके पर प्रति‍वाद भी कि‍या।
मानवाधि‍कार संगठन जि‍स अंध कम्‍युनि‍स्‍ट वि‍रोध की नीति‍ पर चल रहे हैं उससे उनकी राजनीति‍क समझ उजागर हो रही है। इस प्रसंग में दो बातें महत्‍वपूर्ण हैं, पहली बात यह कि‍ भारत में लोकतंत्र है,लोकतंत्र को हत्‍याओं और अपराधि‍यों के बल पर अपहृत करने की कि‍सी भी कोशि‍श को भारत की जनता हमेशा से ठुकराती रही है। लालगढ में यही चल रहा है,भवि‍ष्‍य में लालगढ की जनता भी वही करेगी जि‍स तरह अमनपसंद जनता करती है,वह हिंसा को ठुकराती रही है। इलाका दखल का फार्मूला लागू करने के कारण ही माकपा की हाल के चुनावों में जमकर धुनाई हुई है, माकपा और वामदल हारे हैं। माकपा के नि‍कम्‍मेपन और अपराधी गि‍रोहों के साथ मि‍लकर काम करने की राजनीति‍ का प्रत्‍युत्‍तर अपराधी गि‍रोहों और हिंसक गि‍रोहों की सहायता से इलाका दखल करना नहीं हो सकता। यदि‍ यही माओवादि‍यों का लक्ष्‍य है तो उन्‍हें इस काम में कभी सफलता नहीं मि‍लेगी। लालगढ में माओवादी हिंसाचार में जो लोग शामि‍ल हैं उन्‍हें कानून के हवाले कि‍या जाना चाहि‍ए और इलाके के लोगों के जानोमाल की हि‍फाजत की जानी चाहि‍ए। छत्रधर महतो आज जनसंघर्ष का नायक नहीं रह गया है, यह सच है कि‍ उसने जंग पुलि‍स दमन का प्रति‍वाद करते हुए शुरू की थी, उसकी आरंभ में मांगे भी जायज थीं, उन्‍हें यदि‍ राज्‍य सरकार मान लेती तो स्‍थि‍ति‍ यहां तक नहीं पहुँचती।राज्‍य सरकार ने उसकी पुलि‍स ज्‍यादती से संबंधि‍त मांगों पर गौर न करके गलत कि‍या। आज सारे इलाके की जनता तकलीफ भोग रही है।
आज छत्रधर महतो उस जमीन पर नहीं खडा है जहां वह वि‍गत वर्ष नवम्‍बर में खड़ा था। आज उसके साथि‍यों के हाथ 200 से ज्‍यादा ग्रामीण आदि‍वासि‍यों की हत्‍या में रंग चुके हैं। सैंकड़ों लोगों को छत्रधर महतो और माओवादि‍यों के हिंसाचार की वजह से अपने इलाके को छोडकर शरणार्थी की तरह बाहर रहना पड रहा है। हजारों बच्‍चे स्‍कूल नहीं जा पा रहे हैं,सारे इलाके में प्रशासनतंत्र ठप्‍प पडा है। आम दैनि‍क जीवन में प्रशासनि‍क तंत्र की अनुपस्‍थि‍ति‍ का लाभ उठाकर माओवादी अपनी मनमानी अपराधी हरकतें कर रहे हैं। आज छत्रधर महतो पश्‍चि‍म बंगाल से भि‍न्‍न एक स्‍वतंत्र राज्‍य की मांग कर रहा है। ग्रामीणों की हत्‍याएं कर रहा है। ऐसी स्‍थि‍ति‍ में मीडि‍या,बुद्धि‍जीवि‍यों और लोकतंत्रप्रेमी जनता का यह दायि‍त्‍व बनता है कि‍ वह लालगढ में सामान्‍य स्‍थि‍ति‍ की बहाली के लि‍ए जो भी प्रयास राज्‍य प्रशासन की ओर से उठाए जा रहे हैं उनका साथ दें। अंत में हमें इस सवाल पर जरूर गौर करना चाहि‍ए कि‍ क्‍या कि‍सी भी संगठन को (चाहे वह माकपा हो,तणमूल या माओवादी हों)यह अधि‍कार है कि‍ वह नि‍रीह लोगों पर हमले करे,उनके जनतांत्रि‍क हक छीन ले ?हम माओवादि‍यों पर पाबंदी के खि‍लाफ हैं,हम कि‍सी भी कि‍स्‍म की इलाका दखल की राजनीति‍ के कट्टर वि‍रोधी हैं। बुद्धि‍जीवी के नाते हमें सत्‍य का भक्‍त होना चाहि‍ए। सत्‍य यह है कि‍ लालगढ में नि‍रीह लोगों के मानवाधि‍कारों का हनन माओवादी कर रहे हैं। हमें इस सत्‍य को खुली आंखों से देखना चाहि‍ए। जो बुद्धि‍जीवी सत्‍य से मुँह मोडता है उसे न तो इति‍हास माफ करता है और न जनता ही माफ करती है। छत्रधर महतो की गि‍रफतारी सही कदम है। इसके लि‍ए जो भी पद्धति‍ अपनायी गयी है वह भी तर्कसंगत है। मानवाधि‍कार कर्मी उसके लि‍ए न्‍याय की अदालत में जाएं और उसकी रक्षा करें। राज्‍य प्रशासन का यह दायि‍त्‍व है कि‍ वि‍गत चार महीनों में लालगढ में जो 200 लोग मारे गए हैं उनके हत्‍यारों को वह कानून के हवाले करे। लालगढ इलाके में शांति‍ लौटे। इलाके के लोगों पर पुलि‍स जुल्‍म के बि‍ना जो भी संभव कार्रवाई हो उसे कि‍या जाए। इस प्रसंग में उल्‍लेखनीय है कि‍ लालगढ में 25 हजार से ज्‍यादा पुलि‍स और अर्द्धसैनि‍क बल लगे हैं लेकि‍न कहीं से भी ग्रामीणों पर पुलि‍स दमन की कोई भी रि‍पोर्ट कम से तीन माह से अखबारों में नहीं आयी है। छत्रधर महतो को गि‍रफतार करने के समय भी पुलि‍स को कोई जोरजबर्दस्‍ती नहीं करनी पडी ,महतो को वह छल करके पकडकर ले आयी। इसके वि‍परीत माओवादि‍यों के द्वारा माकपा कार्यकर्त्‍ताओं के खि‍लाफ अहर्नि‍श जुल्‍म की खबरें प्रति‍दि‍न अखबारों में आ रही हैं। माओवादि‍यों को इसका जबाव देना चाहि‍ए कि‍ उनके जुल्‍मोसि‍तम की क्‍या सजा दी जाए ? यह कैसे संभव है कि‍ पुलि‍स और माकपा का जुल्‍म तो जुल्‍म है,अपराध है। और माओवादि‍यों के द्वारा कि‍ए जाए रहे अपराध,जुल्‍म और बर्बर हत्‍याकांड पुण्‍यकर्म हैं ? हत्‍या और जुल्‍म का हर स्‍थि‍ति‍ में प्रति‍वाद करना चाहि‍ए। यही भारतीय बुद्धि‍जीवि‍यों की सही नीति‍ हो सकती है। बुद्धि‍जीवी को जुल्‍म का पक्षधर नहीं होना चाहि‍ए। छत्रधर महतो और माओवादि‍यों के पक्ष में लालगढ के प्रसंग में जो बुद्धि‍जीवी बोल रहे हैं वे जुल्‍म और हिंसा के पक्ष में खडे हैं। यह बुद्धि‍जीवि‍यों के लि‍ए अपशकुन की सूचना है।


1 comment:

chaturanan said...

sachcha buddhijeevi vah hai jo kisi ke sath na khada ho. khada hi hona ho to majaboot ke sath khada ho.kamajor ke sath khada hokar apane ko nast nhi karana use.agar dono galat hon to bhi pachh to liya hi hai aap ne...