Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

19.4.10

कम हुआ गरूर

---- चुटकी----

क्यों
थरूर,
कम हुआ
कुछ गरूर।

2 comments:

शंकर फुलारा said...

गरूर भी कम हो, शरूर भी कम हो,
गर इनमें थोड़ी शर्म हो, भारत और भारतीयता का कुछ मर्म हो |
देश के प्रति समझते अपना धर्म हों
तो इनसे कहो कुछ कर्म करो
हराम की खाने न कर्म करो |

शंकर फुलारा said...

गरूर भी कम हो, शरूर भी कम हो,
गर इनमें थोड़ी शर्म हो, भारत और भारतीयता का कुछ मर्म हो |
देश के प्रति समझते अपना धर्म हों
तो इनसे कहो कुछ कर्म करो
हराम की खाने का, न कर्म करो |