Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

19.10.10

आमरण अनशन पर बैठे

वन्दे मातरम यशवंत जी,
जो भी हुआ गलत हुआ नही होना चाहिए था, मगर जो हुआ है उसके निराकरण के लिए केवल पत्र व्यवहार या शिकायत आदि से जल्दी ही कुछ हो सकेगा सम्भव नजर नही आता है ........ त्वरित कार्यवाही के लिए प्रशासन पर दबाव बेहद जरूरी है .... इसके लिए एक रास्ता मैं सुझाना चाहता हूँ ....... हम सब मिलकर पुलिस मुख्यालय पर आमरण अनशन पर बैठे .... और तब तक बैठे जब तक दोषियों पर समुचित कार्यवाही नही होती है ...... मैं इस आमरण अनशन के लिए आपके साथ हूँ ....... मैं आपके साथ तब तक इस अनशन पर रहूंगा जब तक न्याय नही होता है ....... प्लीज़ मुझे फोन करे ...... 09990728101.08010022911.

1 comment:

sks_the_warrior said...

कब? कहा इकठ्ठा होना होगा? आपने क्या तैयारिया की है? हम सब तैयार है इस काम में आपका सहयोग देने के लिए