Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

24.12.10


संघ आतंकवादी संगठन है। इससे देश को खतरा है। यह सब भगवा आतंकवादी है। माननीय राहुल गाँधी, अगर किसी संगठन के आतंकवादी होने का यही पैमाना है तो इस तरह तो आप भी आतंकवादी की औलाद है। जवाहर लाल नेहरु और गाँधी देश के सबसे बड़े गद्दारों में पहले ही सुमार है। तो उनकी औलादों को देशभक्त कैसे कहा जा सकता है। याद रहे महज प्रधानमंत्री बन्ने के लिए जवाहर लाल नेहरु ने देश का बटवारा करवा दिया था। उसके इस कमीनेपन में गाँधी भी बराबर का साथी था। नई गुलामी के बाद दोनों ने ऐसे खेल खेले की मानवता शर्मशार हो गई। गाँधी राष्ट्रपिता बन गए और जवाहर लाल नेहरु चाचा। मगर भक्त सिंह, सुभाष जैसे और करोडो देशभक्त केवल शहीद दिवस और खास पर्वो पर ही जाने जाने लगे। shashtri jaise desh bhakto ka khatma hua aur aroop laka congresiyo per. aaj rahul aur sonia milkar desh ko phir se gulaam banane per lage huye hai. badhati mahgai, videshi karj और हिन्दुस्तानी ज़मीन को ब्रिटेन ठेकेदारों को देने की मुहीम इसी का एक हिस्सा है।

राहुल गाँधी की नौटंकिया बहुत खलने लगी है। दलितों के घर खाना खाना। वह ise बहुत किसी कद्दू में तीर मरने सरीखा ही समझते है। क्या दलित इन्शान नहीं होते। सवर्ण-दलित का यह कलंक अगर चाहते तो जवाहर लाल नेहरु नई गुलामी के वक्त ही ख़त्म कर देते। मगर देश के खजाने को लूटने की भूख ने गाँधी व् नेहरु को इस कद्र हव्शी बना दिया था की उन्होंने इस खाई को पटने ही दिया।

rahul gandhi aur aaj ke congrsi to bas unhi ke shadyantri ko poora karne me lage hai. havs ke yah pujari sachche desh bhakto ko hamesha se hi aatankvadi karaar dete aye hai, jaise ki ganhi ne deshbhakt bhagat singh v chandra shekhar azad ko ghoshit kar diya tha.

sachchai yah hai ki congress is waqt atankvadiyo ko garh ban chuki hai. desh me chahe mumbai taj kand ho, delhi kand ho ya ahamhabad kand ko in sabko karvane me congress ka hi haath hai. rahul gandhi aaj jis trh se bhagva aatankvad ka rag alaap rha hai, usse uska islam prem saf jahir hota hai. ho bhi kyo na uska baba jo muslmaan tha.

rahul gandhi ka jitna man eid ke din muslimo ko gle lagane me karta hai, utna holi ki mubarakbaad dene ma nahi lagta. sabse badi baat yah hai ki aatankvadio ke nishane per bheed to rahti hai mgr rahul jaisa bevkoof nahi rahta.

rahul gandhi yh jaan lo ki mulk per phla haq hinduo ka hai aur rahega, na yah tumhare baap ka tha aur na hoga

2 comments:

Dr. O.P.Verma said...

Very right...

Congresion ki to firagiyon ki gulami karne ki purani aadat hai. ye kutte hain. desh ko bechte aaye hain aur yahi kareige.

Dr. O.P.Verma

anand kumar jagani said...

bhartioy ki namardi se rahul ke man main mahanta ka kira ghar kar gaya hain.agar rahul congressio ko kursi nahi dila payea to ve unhe bhi sanjay gandhi ki tarah bhool jayange.