Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.1.11

जय हो आपकी

अरसे बाद एक बार फिर अनपढ़ आप ब्लागर भाईयों से मुखातिब है, दुआ-सलाम कुबूल कीजिए। निरंतरता बनाए रखने की कोशिश करूंगा, लेकिन सब कुछ अपने हाथ में नहीं होता। खुद के पास कंप्यूटर का जुगाड़ नहीं होने से इस तरह की दिक्कत आती है। आफिस के सिस्टम पर आप चाह कर भी मन में उमड़ती-घुमड़ती तमाम बातें नहीं लिख सकते। कुछ संकोच, कुछ डेकोरम... इत्यादि-इत्यादि। अगस्त में मैंने आखिरी पोस्ट डाली थी, उसके बाद से अलाली आड़े आ गई। खैर, एक नए लालच ने आज 25 जनवरी 2011 को फिर से की-बोर्ड से संगत करवा दी। लालच क्या है, यह भी इसी पोस्ट में आपको बता दूंगा, लेकिन सबसे पहले आप सभी को तंत्र का गण बनने की बधाई। उस तंत्र का, जहां बाजार सब पर हावी है, मानवीय मूल्य, प्रेम-रिश्ते धर्म-कर्म मोक्ष पर। दो दिन पहले ही रात तीन बजे के आसपास आफिस से घऱ पहुंचने के बाद टेलीविजन पर फिल्म यात्रा देखी थी, रेखा-नाना पाटेकर और दीप्ति नवल अभिनीत। ऐसी फिल्में सराही जानीं चाहिए, पर जब तथाकथित बौद्धिकों की जमात की सोच लकवाग्रस्त हो तो क्या कर लेंगे हम -आप। बहरहाल, गणतंत्र की 61 वीं वर्षगांठ पर मेरे लिए कुछ अच्छी सूचनाएं भी हैं घटिया राजनीति के बीच। जैसे एके हंगल की मदद के लिए आगे बढ़ने वाले हाथ (यह श्रेय मीडिया ले सकता है) और सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न दिए जाने की चर्चा। ईश्वर श्री हंगल साहब को लंबी उम्र बख्शें। मास्टर ब्लास्टर का बल्ला विश्वकप में भारत को कामयाबी दिलाए, यह हर हिंदुस्तानी की तरह मेरी भी ख्वाहिश है, लेकिन मेरा मानना है कि कपिल देव जैसी शख्सियत को भी भारत रत्न दिए जाने पर विचार किया जाना चाहिए। आखिर 1983 का विश्वकप कपिल का पराक्रम था। याद कीजिए जिंवाम्बे से हुआ सेमीफाइनल, जिसमें भारतीय पारी एक समय 19 रन पर चार विकेट गंवा चुकी थी। तब कपिल ने 175 रनों की नाबाद पारी खेली थी। फाइनल में यदि उन्होंने विवियन रिचर्ड्स का कैच नहीं पकड़ा होता तो 60 ओवरों में 183 रनों का लक्ष्य क्या वेस्टइंडीज की उस टीम के लिए चुनौती भऱा था, जिसके पास तब दुनिया के उम्दा बल्लेबाज थे।
अब अपने लालच का खुलासा। मेरे संपादकीय प्रभारी राघवेंद्र चड्ढा जी का कहना है कि थोड़ी ब्लागिंग भी होनी चाहिए। इस बार साध्य (सूरजकुंड में जागरण परिवार का सालाना आयोजन) में ब्लाग वाले भी पुरस्कृत हुए हैं। उम्मीद है कि अगले साध्य में मेरी इंट्री भी रहेगी। फिलहाल सभी की...जय हो। जयहिंद।

1 comment:

Broken Eyes... said...

thats a good one .............



to feel special u can log on to this link- www.feelspecialwithajay.blogspot.com