Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.2.11

कमला....(राज शिवम)

कांती और शांति देती है,वही कमला है।ये महालक्ष्मी का रुप है,श्री विष्णु शक्ति है।ये शिव शाक्त की विशेष शक्ति है।जीव हमेशा अशांत रहता है,कारण कुछ कुछ हो,उस अशांति से साधक को विशेष धन,देकर,धर्म,कर्म में रुचि बढ़ाकर,विशेष पुण्य की ओर ले जाती है।धन के बिना कोई साधना कठिन है।ये जो ऐश्वर्य सुख देती है,वह सुकर्म के द्वारा प्राप्त होता है।
शारीरीक पुष्टता,तेज,ओज,चमक के साथ,परम शांति प्रदान करती है।चिंता करो,अशांत इसलिए थे कि,मोह,अहंकार,माया,पद,ईर्ष्या से तुम एकाकार होते रहे।अब सारे बंधन काट लिए हो,अब आराम से समाधि लेते रहो।लोगों में शांति प्रदान करो,दूसरों को मदद करो,जीव का सहायक बनो।यही तुम्हें परम शांत स्वरुप का बोध करायेगा।तुम शांत हो,अचल हो,यही स्वभाव,वही स्वरुप प्रकट करा कर दिव्य दर्शन की ओर ले जाती है।