Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

20.3.11

जुझारू पत्रकार आलोक तोमर

आज एक और जुझारू पत्रकार आलोक तोमर  , हम सब के बीच नही रहे . दिल्ली  के एक अस्पताल में उनका निधन हो गया .वैसे तो भारत में पत्रकारों की संख्या आज लाखो में है , और हजारों तो  ऐसे हैं , जिनका बड़ा नाम है  मगर , आलोक तोमर जैसे , इन तथाकथित कहे  जाने वाले बड़े और  महान पत्रकारों में इक्का दुक्का ही मिलेंगे ..

कल २१ मार्च को आलोक जी का पार्थिव शरीर अग्नि को  समर्पित  कर दिया जायेगा , इस मौके पर  उन्ही पत्रकारों के एक बहुत बड़ी  तादाद अपने घडियाली  आंसू  बहाने पहुचेंगे और स्वर्गीय आलोक जी की तारीफ़ के पुल बांधते  नहीं अघायेंगे , जो उनके जीवनकाल  में , उनकी जड़ें  खोद कर मठा डालने का कम किया करते थे ..

तोमर जी को सच्ची  श्रधांजलि  दे पाना बहुत कठिन है , परन्तु  उनके दिखाए क़दमों पर अगर कुछ दूर भी  चला जा सके तो , हम लोग एक बड़ा काम कर सकते हैं , जिस से निश्चित ही उनकी आत्मा को शांति मिलेगी .


1 comment:

तीसरी आंख said...

वाकई वे महान पत्रकार थे, जिनका कोई सानी नहीं है
.तेजवानी गिरधर, अजमेर