Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

20.3.11

जाट की जम्हुआई

* जाट आन्दोलनकारी रेल की पटरियों  पर लेटे हैं | इसमें कोई ज्यादा खतरा नहीं है
 वे लेटे रहें तो भी रेल उनके ऊपर से सुरक्षित गुज़र जाएगी | लेकिन एक समस्या है कि यदि कहीं उन्हें जम्हाई आ गयी , और कोई रेल यात्री उसी समय टॉयलेट  में हुआ तो स्थिति बिगड़ सकती है  |

2 comments:

AryaSurenderVerma said...

ऐसा ही होना चाहिए ऐसे लोगो के साथ. जो लोग आम जनता की नही सोच रहे सबी को परेशान कर के रखा है. अगर इतनी ही हिम्मत है तो रेल लाइन को छोड़ के संसद भवन के पास जाके बैठे अपने आप पता लग जायेगा इनको.

shrish srivastava said...

आरक्षण तो केवल नालायको को चाहिए। अगर यह किसी लायक होते तो पटरी पर ना बैठते।