Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.3.11

आलोक तोमर के साथ २१ फरवरी २००९ को राष्ट्रीय महानगर, कोलकाता के संपादक (जनसत्ता के पूर्व संवाददाता)प्रकाश चंडालिया के साथ हुयी यादगार चैटिंग

आलोक तोमर के साथ २१ फरवरी २००९ को राष्ट्रीय महानगर, कोलकाता के संपादक (जनसत्ता के पूर्व संवाददाता) प्रकाश चंडालिया  के साथ हुयी यादगार चैटिंग, जिसमे उन्होंने लिखा था की ५ साल जिन्दा रहकर अपने निधन की डबल कालम स्टोरी खुद बनाना चाहता हूँ. क्या विडम्बना है कि इस चैटिंग के ठीक २ साल बाद यानी २१ फरवरी २०११ को उनकी अंतिम क्रिया संपन्न हो रही होती है.
श्रद्धा के साथ पेश हैं, उस यादगार चैटिंग के कुछ अंश-

21:55 datelineindia: guru ji??????????????????
 me: jaisri ram sirji
21:56 datelineindia: ghar par ho?
 me: daftar me sir
 datelineindia: is karmathta ko sallam
 me: aapko karmpurush award
21:57 datelineindia: taka bhee hai?
 me: tabiyat kaisi hai? hospital se mukt kab hue
21:58 datelineindia: somwaar ko bharti hounga AIIMS men.
21:59 me: jahi vidhi rakhe ram. ye aspatal ka awagaman achhi baat nai. dhyan rakhen bhai saab, varna apki sangat me doctor-nurse bhi lekhak ban jaayenge.
22:01 datelineindia: saath baanate chalo. aaj mumbai se lauta to plane me oxygen lag gayee, 5 saal jee kar nidhan ki double colomn story bananan chahta hoon.

1 comment:

sks_the_warrior said...

kash alok ji hote..