Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.5.11

११०० की राशि और सम्मिलित करना चाहूंगा

मित्रों,यह पोस्ट लिखने से पूर्व मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि ना तो मेरा संघ-परिवार से कोई संबंध है ना उनकी विचारधारा से सहमति अपितु मुझे जानने वाले इस बात की तसदीक करेंगे कि मैने सदैव मुखर होकर उनकी कई बात काविरोद्ध किया और नुकसान भी उठाया है।परंतु स्वामी अग्निवेश ने अमरनाथ को लेकर जो टिप्पणी की और फिर नित्यानद ने जो उनकी प्राकृतिक चिकित्सा की उससे यही सिद्ध होता है कि अग्निवेश को भी वही बीमारी है जिसके लक्षण कभी दिग्विजय सिंह कभी मुलायम सिंह कभि मायावती मे दिखाई देते हैं।यदि आप स्वयं को इतना ही प्रगतिशील मानते है तो एक बार यह भी बताइये कि मक्का का संगे असवद काले पत्थर के सिवा कुछ नहीं
सिर्फ अग्निवेश ही क्यों ?तमाम तथाकथित प्रगतिशीलों को चुनौती है कि हज़रत मुहम्मद का चरित्र-चित्रण तो छोडिए एक रेखाचित्र ही बनाकर दिखाएं।पश्चिम जोकि स्वयं को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अलंबरदार मानता है वहां भी हज़रत ईसा के एक कुंआरी के गर्भ से पैदा होने की प्रक्रिया पर बात नही होती।
इस पोस्ट के माध्यम से मैम महंत नित्यानमद को बधाई देते हुए उन्होने जुता मारने वाले को जो ५१००० की राशि घोषित की है उसमें अपनी गाढी कमाई की ११०० की राशि और सम्मिलित करना चाहूंगा।

1 comment:

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

सच के सिवाय कुछ नहीं कहा, कोरा सच