Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.5.11

reenakari: सफ़र पर कुछ और आगे आना हुआ ,

reenakari: सफ़र पर कुछ और आगे आना हुआ ,: "मुदत से दुआ कोई आज काबुल हुई , फिर एक मर्दाफा कोई महफ़िल कायल हुई , आज फिर महफ़िल में उनका आना जो हुआ , नज़रो से नजरो का मिलना हुआ , शमा ज..."