Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

24.8.11

बड़ी देर कर दी

! - There are so many Annas to carry forward Anna's mission . No, I am not Anna .India is no Anna . Anna is not India [Indira is India had spoiled the democracyin huge volume] . I am in my name and a citizen of India . No one should imitate others' name .This is a major point of dessent for us rationalists, a own minds' group. Please don't change the nation into a single person. ##

2 - हुज़ूर आते आते बड़ी देर कर दी | यही कहना होगा सांसदों के घरों पर अन्ना के प्रदर्शनकारियों सेअब याद आये एम पी लोग ? जबकि इन्ही के पास तो सबसे पहले जाना चाहिए था , बल्कि इन्ही के पास जाना ही आप की सीमा थी - जन प्रतिनिधियों को समझाते , प्रभावित करते ,उन पर दबाव डालतेलेकिन आप तो सरकार के साथ मंत्रियों की कमेटी में हो आये , अपना ड्राफ्ट सरकार को दे आये , स्टेंडिंग कमेटी से मिल आये , बात नहीं बनी तो इतने दीं अन्ना लीला कर लिएतो अब जाकर एम पी याद आये ? नहीं , हम आपको कोई आश्वासन नहीं दे सकतेजो कुछ करेंगे ,कहेंगे सदन में कहेंगेकब आपने हम तुच्छों को विश्वास में लेने की कोशिश की ? अलबत्ता गालियाँ ज़रूर देते रहेअब तो हम नहीं आते तुम्हारे धौंस में । और यदि प्रदर्शन इस तरीके से कही हिंसक हो गया तो समझो सरकार काम बन गया ,अन्ना की हेंकड़ी गिर गयी । ##

- आप की मांग सही है तो क्या किसी की जान लेना भी जायज़ है ? इसलिए यदि अन्ना को कुछ हो जाता है तो अन्ना को आत्महत्या [हत्या] के लिए उकसाने के जुर्म में तीन तिलंगों पर कानूनी कार्यवाही की जानी चाहिएइसमें केवल अन्ना दोषी नहीं हैं ,उनका इरादा तो नेक ही हैहाँ , यह भी गौरतलब है, प्रदर्शनकारियों के लिए ,कि संतोष हेगड़े जी क्यों टीम से बाहर नजर रहे हैं ? क्या वह देशद्रोही , भ्रष्टाचार समर्थक हैं ? ##

- दिक्कत यह है कि यदि अन्ना अनशन तोड़ना भी चाह रहे होंगे तो उनकी पृष्ठ ताकतें उन्हें ऐसा नहीं करने देंगीं , भले उनकी जान चली जाययाद किया जाय गाइड फिल्म के अंतिम दृश्यों को , जब देवानंद अन्ना हजारे हो जाता है ,तो मामला साफ़ हो जाता है । ##

- देश पैसा देश से बाहर जाय , यह तो ठीक हैपर भारत में भी कोई पैसा [भारत को मजबूत या खोखला करने के लिए ] भारत में आये ,इस साधारण सी बात को मानने में किसी को क्या एतराज़ होना चाहिएएन जी को बाहर से पैसा क्यों मिले ,वह भी बगैर किसी जवाब देही के ? कोई मदद -इमदाद मिले तो भारत सरकार को मिलेऐसी आर्थिक आज़ादी भी क्या जिस से आर्थिक व्यभिचार पैदा हो ? इसे भला अन्ना जी क्या संझें और कितना समझें ? और उनकी टीम तो खुद उससे पोषित है , पर ngo's के लिए यह छूट क्या अनैतिक नहीं है ? ##

- राज तो करेगा अमरीका , जिसने दिया है पैसा ##

2 comments:

तेजवानी गिरधर said...

बडी हिम्मत का काम कियाि है आपने, वरना इन दिनों ऐसी जुबान खोलना खतरे से खाल नहीं है

Ugranath Nagrik said...

Thanks, aap par bharosa hai na ! jab anna ko dar nahi lagta to yahi kyon maan liya jaay ki shesh sab log bheegi billiyan ya kumhade ki batiya hain ? Himmat aur saahas kaa bhi vikendrikaran hona chahiye . Kya main galat kah raha hun ? Aage ka bhi blog dekhen. Abhi EIDGAH naam se likha hai | ##






















games, utorrent