Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

10.2.12

शीर्षक बदलिए : ''जो भारत माता का ***** कर रहे हैं, उन से बुरा काम तो इन बेचारों ने नहीं किया ''


           

जो भारत माता का रेप कर रहे हैं, उन से बुरा काम तो इन बेचारों ने नहीं किया .

जो भारत माता का **** कर रहे हैं, उन से बुरा काम तो इन बेचारों ने नहीं किया .



माननीय शिखा जी , 


में किसी कि भावना को आहत नहीं करना चाहता.

पर सोचिये , आपको शीर्षक ही आहात कर रहा है , और वो ये काम वास्तव में कर रहे हैं. 


भारत जैसे देश में जहाँ २५ करोड़  लोगों के पास पिने का पानी नहीं वहां लाख करोड़ खा कर भी मस्त फोटो खिंचा रहे हैं , 


एक अकेला डा स्वामी लगा है , जिसकी जान के पीछे सारी सरकार के गुंडे पड़े हैं .


क्या शीर्षक बदलने से वास्तु स्थिति बदल जायेगी ?


और आपको बुरा लगा, पर अधिकतर जनता को एसी ख़बरों से कोई सरोकार नहीं , 


में आपसे क्षमा प्रार्थी हूँ , 


कोई ऐसा शीर्षक सुझा दें जिससे इस तथ्य जोर के साथ  को कहा जा सके , 


में आपका अति आभारी रहूँगा 


अशोक गुप्ता 
=====================================

9.2.12

इस शीर्षक को तुरंत बदल दे!



इस शीर्षक को तुरंत बदल दे!




अशोक जी ,




 आपसे प्रार्थना  है कि इस शीर्षक को तुरंत बदल दे .यह शीर्षक 


 ''भारत  माता ''की गरिमा को तो चोट पहुंचा ही रहा है साथ 


भारत ke करोड़ों  देश- प्रेमियों  को भी आहत कर रहा है जो माता 


की आन पर प्राण देने के लिए हर पल तैयार हैं .






''जो भारत माता का रेप कर रहे हैं, उन से बुरा काम तो इन बेचारों ने नहीं 

किया ''

                                                                    शिखा कौशिक 
                                                               [bhartiy nari ]

2 comments:

Markand Dave said...

आप `रेप`की जगह `चीरहरण का अधम प्रयास` जोड़ सकते हैं क्या..!!

I and god said...

धन्यवाद दावे जी ,

नाम बदलने से क्या तथ्यों में कोई बदलाव आ जायेगा ,

आपको व् शिखा जी को पढ़ना अच्छा नहीं लगा , मुझे लिखते हुए कितना कष्ट हुआ है , पर क्या करे , मेरे हिसाब से तो जो ये नेता कर रहे हैं , उसके लिए तो कोई शब्द मेरे पास है ही नहीं.