Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

12.7.15

जान बचाने की फरियाद में भटकता मीडियकर्मी (पत्रकार)


 यु०पी बरेली -पुलिस के डी०आई०जी० और अपराधियो के गठ जोड़ और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने की सजा पत्रकार को देते हुए उस पर जान लेबा हमला कराय और अब बरेली  पुलिस और अपराधियो ने मिलकर मीडियाकर्मी योगेन्द्र सिंह को रंगदारी और अपहरण के झूठे आपराधिक मुक़दमे में फँसकर मीडियाकर्मी व उसके परिवार की हत्या कराने की बड़ी साजिश कर ते हुए डी०आई०जी बरेली आर०के०एस०राठौर व एस०एस०पी बरेली और इन के आधिनिष्ट सीओ पुलिस बरेली ,थाना कोतवाली पुलिस ,क्राइम ब्रांच मुरादाबाद इंस्पेक्टर सर्वचन्द तथा इन के खास भूमाफिया पैसेवाले ऊँचे रसूख बाले दर्जनो  अपराधिक मुकदमो के अभियुक्तो से मिलकर आप को बतादे की इन अपराधियो पर बरेली और बदायूँ के कइयों थानो में गम्भीर प्रवती के दर्जनो मुक़दमे दर्ज है फिर भी बरेली पुलिस व डी०आई०जी बरेली इन अपराधियो  खुला संरक्षण दिये हुए है और इन्ही अपराधियो  मिलकर पेशबन्दी में मीडियाकर्मी योगेन्द्र सिंह को अपहरण व रंगदारी के झूठे केस में फसाकर पत्रकार योगेन्द्र के खिलाफ  अपने पद का दुरूपयोग कर दिनाक 26-11-014 को भारी पुलिस बल घर भेज कर पत्रकार जगेंद्र की तरह ही रात के 12 बजे घर के दरवाजे तोड़ कर मीडियाकर्मी को गिरफ्तार कर थाना कोतबाली बरेली में लेजाकर जम कर पिटा और भविषमे फिर कभी आपसी गठ जोड़ की खबर न बनाने सर्तो के साथ दर्जनो सादा कागजो पर दस्खत कर बाकर सुवाह को थाना कोतबाली पुलिस ने छोड़ दिया और अब इसी झूठे मामले में जेल भेजने की योजना बनाकर बरेली पुलिस मीडियाकर्मी और उसके परिवार व बच्चो की हत्या कराना चाहती है 

मीडियाकर्मी योगेन्द्र का कसूर इतना है की बरेली पुलिस के बड़े अधिकारी का स्टींग ऑपरेशन करते हुए पुलिस अधिकारियो के भ्रष्टाचार वा पद का  दुरूपयोग करते हुए अपराधियो के साथ गठ जोड़ का खुलासा करते हुए इनके द्वारा पीड़ित लोगो की खबरों को प्रसारण हेतु समाचार सन्दर्भित कर अपने ऑफिस को अग्रसर किया तो इस से रंजिश मानते हुए पेशबंदी में मीडियाकर्मी पर दिनाक 24-4-14 को थाना देवरनिया क्षेत्र बरेली में इन बदमाशो ने पत्रकार योगेन्द्र पर जानलेवा हमला करते हुए जमकर मारपीट की और खीच कर एक कार में डालकर लेजाने की कोशिश की किन्तु स्थानीय लोगो के हस्तःशेप से पत्रकार योगेन्द्र की जान तो बच गयी तब पीड़ित पत्रकार द्वारा इस घटना का मु०अ०स० 115 /2014 धारा 323 ,504 ,506 ipc 3 (1 )(10 )sc /st act थाना देवरनिया बरेली में अभियुक्तो के खिलाफ दर्ज कराया की विवेचना चल रही थी तभी एक चौकाने वाला सच सामने आया की पुलिस डी०आई० जी०बरेली आर०के०एस०राठौर० पत्रकार योगेन्द्र पर जानलेवा हमला करने वाले अपराधियो को बचाते हुए मुक़दमे की विवेचना को प्रभावित कर रहे है और मीडियाकर्मी के मुक़दमे के गवाहों को झूठे मुक़दमे में वसाकर गवाहों को गवाही देने से तोड़ रहे है और अपने पद का दुरूपयोग करते मुक़दमे की विवेचना को प्रभावित कर मीडियाकर्मी को विधिक न्याय से वंचित कर रहे है और अंतता डी०आई०जी ने मीडियाकर्मी द्वारा लिखाये गये  मुक़दमे को एक्स पंज करा कर शातिर अभियुक्तो को कानूनी कार्यवाही से बचा दिया जब मिडिया कर्मी ने विवेचना अधिकारी सी०ओ०बहेड़ी से अपने मुक़दमे के सम्बन्ध में जानकारी ली तो चौकाने वाला खुलासा करते हुए विवेचना अधिकारी तथा उनके स्टेनो ने बताया की डी०आई०जी०आर के एस राठौर के दबाव में मुकदमा ख़त्म हो गया है इस बात की ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मीडियाकर्मी के पास मौजूद है 

video

video

video

बड़ा खुलासा होने के बाद न्याय की आस में मिडियाकर्मी ने डी०आई०जी०के कारनामो का खुलासा करते हुए बरेली पुलिस अधिकारियो के भृष्टाचार और अपराधियो के गठ जोड़ तथा  हो रहे अपने उत्पीड़न के सम्बन्ध में लोकतन्त्र सुरक्षार्थ भारतीय संविधान के अंतर्गत संवैधानिक उच्च सरकारी तंत्रो एवं भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री कार्यालय सौथ ब्लॉक नई दिल्ली ,राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ,उत्तर प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ,श्रीमान अध्यक्ष ,राष्ट्रीय प्रैस एसोसिएशन नई दिल्ली ,राष्ट्रिय अनुसूचित जाती आयोग नई दिल्ली ,मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश सरकार ,होम सेकेर्टरी उत्तर प्रदेश राज्य लखनऊ ,डी०जी०पी पुलिस लखनऊ ,चीफ सेकेटरी लखनऊ ,केन्द्रीय गृह मंत्री केन्द्र सरकार दिल्ली ,मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ आदि से पत्रकार योगेन्द्र सिंह ने अपराधियो व पुलिस अधिकारियो के गठ -जोड़ के संबन्ध में लिखित  शिकायत की और सूचना के अधिकार के अन्तर्गत शिकायती पत्रो की जन सूचना के तहत कार्यवाही के सम्बन्ध में जवाब माँगा तो बरेली पुलिस में हड़कम्प मच गया  इससे और अधिक  नाराज होकर पत्रकार योगेन्द्र को फर्जी रंगदारी व अपहरण के मामले में झूठा फँसाकर जेल भेजने की योजना बनाते हुए मु०अ०स०1091 /2014 थाना कोतवाली बरेली में पत्रकार योगेन्द्र को झूठे मुक़दमे का अभियुक्त बनाकर फरार दिखाते हुए मीडियाकर्मी के घर की नीलामी करने की तैयारी पूरी कर बरेली पुलिस अब उत्पीड़न कर रही है और अपराधियो से मिलकर मीडियाकर्मी व उसके परिवार की हत्या कराने की साजिश रचते हुए ऊँचे रसूक वाले भूमाफिया दर्जनो गम्भीर अपराधिक मुकदमो के अभियुक्तो को खुला संरक्षण देकर डी०आई०जी०पुलिस बरेली इन अपराधियो से मीडियाकर्मी की हत्या कर देने की फिराक में है और अपराधिक प्रवर्ती के  लोगो को संरक्षण देकर अपने पद का दुरूपयोग करते हुए मीडियाकर्मी योगेन्द्र के जीबन के साथ खिलबाड़ कर ते हुऐ अपराधियो की हौसला अफजाई कर रहे है बरेली पुलिस के संरक्षण प्राप्त अपराधियो पर अलग अलग जनपदो के कई थानो में दर्जनो मुक़दमे दर्ज हे पुलिस के ख़ास चहतेयह  अपराधी  कई अपहरण व रंगदारी की गम्भीर घटनाओ को बखूबी अंजाम दे रहे है 
बरेली पुलिस का खासअपराधी तथा मीडियाकर्मी के विरूद्व लिखाये गये झूठे मु०अ०स०1091/014 थाना कोतबाली बरेली के बादी विनय उर्फ़ गुड्डू एक आपराधिक व्यक्ति है उस के विरूद्व थाना प्रेमनगर बरेली में अपराध संख्य 439 /014 अंतर्गत धारा 147,354 ,323 ,504 ,506 ,ipc व 3(1)(10)sc/st एक्ट ,(व) थाना देवरनिया बरेली मु०अ०स०115/014 धारा -323,504,506 342 ipc व 3(!)(10)sc/st एक्ट  (व)मु०अ०स० 2027/ 2012 न्यायालय ए०सी०जे०एम० 6,धारा 452 ,३२३,323 504 ,506 ipc थाना प्रेमनगर बरेली 
(4) मु०अ०स०384 /2014धारा 147,354,323, 504,506,342,आई०पी०सी०व 3(1)(10) एस०सी०/एस०टी एक्ट 
(5)-मु०अ०स०887/04 धारा 302 ,201 आई०पी०सी० थाना प्रेमनगर बरेली (हत्याकाण्ड )
 (6)-1507/2014 धारा386,506,427,452आई०पी०सी०थाना सिबिल लाइन जिला बदायूँ  
 (7)-मु०अ०स०-35 /2015धारा 364,384,385,506आई०पी०सी० थाना प्रेमनगर बरेली 
(8)-मु०अ०स०एस०सी०सी०-65/2012 जे०एस०सी०सी० बरेली 
आदि मुकदमो का शातिर संदिग्ध चरित्र का दबंगभूमाफिया अपराधिक प्रवृति का व्यक्ति अनेको आपराधिक मुकदमों का अभियुक्त बरेली पुलिस व डी०आई०जी० बरेली का खास चहता अभियुक्त है 



yogendra pal singh kaushal 
media person 
bareilly   
9410498584 

No comments: