Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.5.17

विनोद कापड़ी आ गए औकात में


बात बात में रिपोर्ट लिखाने और जेल भिजवाने की धमकी देने वाले विनोद कापड़ी और उनसे आधी उम्र की उनकी दूसरी पत्नी साक्षी जोशी को अपनी औकात अच्च्छी तरह से पता चल गई. ये बेचारे कुछ नहीं कर पा रहे हैं. ये प्रधानमंत्री से गुहार लगा रहे हैं, ''हे पीएम जी देख लो, तुम्हारे आदमी हमको कितना गंदा गंदा लिख के सबके सामने गरिया रहे हैं.''

20.5.17

दैनिक भास्कर रोहतक के संपादक जितेंद्र श्रीवास्तव ने आत्महत्या कर लिया



शुगर डैडी यानि राहुल भटनागर

संबंधित खबर

शमशेर सिंह पेश करेंगे 'जय हिंद'

संबंधित खबर

असगर वजाहत पर विशेषांक


संबंधित खबर..

लाइव इंडिया चैनल के दो वरिष्ठों के खिलाफ एफआईआर

संबंधित खबर...

गांजा तस्करी मामले में आरएसएस और विहिप नेताओं को जांच के दायरे में लाया जाए- रिहाई मंच

पुलिस अगर गांजा तस्कर विहिप नेता रामाशीष राय का नारको टेस्ट कराए तो पकड़े जाएंगे और भी संघी- मंजूर आलम

आम हिंदुओं को संघ परिवार से चौकन्ना रहने की जरूरत, संघ बना रहा है लोगों को नशेड़ी- राजषेखर रवि

बलिया । रिहाई मंच ने बलिया स्टेशन से 36 किलो गांजा के साथ पकड़े गए विश्व हिंदू परिषद मऊ के पूर्व जिलाध्यक्ष रामाशीष राय के मामले में संघ परिवार और उसके दूसरे आनुषांगिक संगठनों को भी जांच के दायरे में लाने की मांग की है। मंच ने कहा है कि संघ परिवार के नेता केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही ड्रग्स सप्लाई और दूसरे अनैतिक कामों में सक्रिय हो गए हैं।

रैनसमवेयर की जाल में उलझती दुनिया

हाल ही में रैनसमवेयर नाम के वायरस ने भारत सहित दुनिया के लगभग डेढ़ सौ देशों में विभित्र सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों के कंप्यूटर ठप करने की घटना ने हड़कंप मचा दिया था। इस वायरस की वारदात से दुनिया के सामने एक नए प्रकार की आफत खड़ी हो गई है। इससे यह तो साफ है कि साइबर सुरक्षा को लेकर सभी देशों ने एकजुट होकर गंभीरता नहीं दिखाई तो ऐसे हमले दुनिया में तहलका मचा सकते हैं। साइबर हमले से सबसे ज्यादा प्रभावित ब्रिटेन हुआ है।

18.5.17

इस लड़की ने बनाई मुसहरों के जीवन पर फिल्म, आप भी देखें


संबंधित खबर और डाक्यूमेंट्री के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें...

मुसहरों का दुख देखा न गया तो इस लड़की ने कैमरे को बनाया हथियार (देखें डाक्यूमेंट्री)

विधानसभा में हंगामा करने वालों को भरपूर स्थान देता है मीडिया : नरोत्तम मिश्र

भोपाल । आज अन्य तरह के परिवर्तनों के साथ ही पत्रकारिता का परिदृश्य भी काफी बदल गया है। युवा पत्रकारों से आज समाज को काफी आशा है। टीवी पत्रकारिता ने भी पत्रकारों की कार्य-शैली को बदला है। इसलिए कई बार तथ्य और वास्तविकता की उपेक्षा भी हो जाती है। पत्रकारिता कोई खेल नहीं बल्कि एक गंभीर विधा है जिसकी गरिमा को कायम रखने के लिए किए जा रहे प्रयास प्रशंसनीय हैं। गंभीर मीडिया जनप्रतिनिधियों को भी गंभीरता से कार्य करने के लिए प्रवृत्त करता है। यह विचार जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने पत्रकारिता एवं संचार के विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। वे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के प्रतिभा पुरस्कार समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

17.5.17

प्रभु जी, रेलवे को इन उपायों से खूब लाभ होगा

संबंधित खबर पढ़ने के लिए इस शीर्षक पर क्लिक करें...

नहीं रहे युवा आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी

संबंधित खबर के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें...

हिंदुस्तान टाइम्स को एक बाबू ने क्यों भेजा लीगल नोटिस



संबंधित खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें...

मारा गया राजद नेता और फोटो लगा दी सांसद की...

संबंधित खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें...

चौथी दुनिया अखबार बना पत्रकारों के शोषण का अड्डा




संबंधित खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें...

बनारस में कई मीडियाकर्मी सम्मानित

संबंधित खबर...

15.5.17

योगी राज में अपराध बढ़े


मजीठिया लागू करने को लेकर लेबर विभाग ने तो हिंदुस्तान अखबार को क्लीनचिट दे दी











इरफान पहुंचे न्यूज1इंडिया


मनोज अलीगढ़ी की नई पहल

संबंधित खबर

मैं एक पत्रकार हूं....

न मैं बेकार हूं, न मैं ईमानदार हूं
हां मुझे याद है, मैं एक पत्रकार हूं
निकला हुं आज फिर एक नई स्टोरी पर
अपने डे प्लान की थ्योरी पर
उस नेता की चोखट पर आज फिर से जाना है
जिस नेता का रिश्ता मेरी कलम से कुछ अंजाना है
न जाने देख कर क्यों मुझे वो मुस्कुराता है
लगता उसकी बातों से मेरा बॉस भी उससे घबराता है
मालिक की क्या सैटिंग है, मैं इस बात से अंजान हूं
हां, मुझे याद है मैं एक पत्रकार हूं।

निकला हूं बदलने देश-दुनिया, सहारे सुबर्तो, अंबानी और अड़ानी के
डिग्री के मायने क्या है मेरी, ये बताया टीम मार्केटिंग ने कहानी में
कलम ही नहीं, दफ्तर भी बदल जायेगा
अगर मेरे अंदर का गणेश शँकर विधार्थी जग जायेगा
बड़ी –बड़ी बाते जो तुम पर्दे पर करते हो वो फिर नहीं कोई सुन पायेगा
ये मीडिया नहीं, मार्केटिंग है
इसमें जो जितना बिक पायेगा, वो ही उतना ही मार्केट में टिक पायेगा।

सत्येंद्र सिंह की नई पारी

संबंधित खबर

पूरन चंद जोशी ने इंडिया टीवी से इस्तीफा दिया

संबंधित खबर

दिलीप मंडल लिखेंगे जस्टिस कर्णन की जीवनी

संबंधित खबर

मौत मांगती एक मां

खबर पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करें...