Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

21.10.17

स्पोर्ट्स फ़्लैशेज़ में न टाइम पर सैलरी आती थी और न ही लोग प्रोफ़शनल थे, लिहाज़ा मैंने अलविदा कह दिया




No comments: