Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

12.11.17

कोलकाता मेट्रो में 7 वर्षों में कोई दुर्घटना नहीं

मेट्रो रेलवे, कोलकाता द्वारा लखनऊ स्थित एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को आरटीआई  में दी गयी सूचना के अनुसार कोलकाता मेट्रो में पिछले 07 वर्षों में कोई दुर्घटना नहीं हुई है. नूतन ने रेलवे मंत्रालय से 01 जनवरी  2010 से अब तक हुई ट्रेन दुर्घटनाओं के सम्बन्ध में बनायी गयी जाँच समिति की सूची तथा इन जाँच आख्या एवं इनके आधार पर की गयी कार्यवाही की प्रति मांगी थी. मंत्रालय से इसे सभी रेलवे जोन को अग्रसारित कर दिया था. जहाँ अन्य सभी रेलवे जोन द्वारा अलग-अलग संख्या में दुर्घटना होने की बात बताई गयी, वहीँ कोलकाता मेट्रो अकेला ऐसा रेलवे जोन है जिसके द्वारा इस सम्बन्ध में शून्य सूचना दी गयी. इस अवधि में सर्वाधिक 83 ट्रेन दुर्घटनाएं उत्तर पश्चिम रेलवे जोन, जयपुर में हुईं जबकि पूर्वात्तर रेलवे जोन गोरखपुर में 62 दुर्घटनाएं हुईं. भारत में वर्तमान में 17 रेलवे जोन हैं.


RTI: No train accident in Kolkata Metro in 07 years

As per the RTI information provided by Metro Railway, Kolkata to Lucknow based activist Dr Nutan Thakur , there has been no train accident in Metro Railways, Kolkata during the last 07 years. Nutan had sought the list of enquiry committees constituted by Railways Ministry as regards various train accidents since 01 January 2010, along with the copy of enquiry Reports and Action taken on these Reports. It was forwarded by the Ministry to the Railway Zones. While every other Railway Zone of India admitted of having different number of accidents, Kolkata Metro is the only Railway Zone which said it had no train accident in the given period. The maximum number of 83 accidents took place in North Western Railway Zone, Jaipur followed by 62 accidents in North Eastern Railway Zone, Gorakhpur. There are a total of 17 Railway Zones in India.

Post a Comment