Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

8.11.17

क्या टीवी चैनल पर Debate Show में पतलून उतारेंगे?

क्या टीवी चैनल पर Debate Show में पतलून उतारेंगे? ये सवाल जैसे ही TV Debate कार्यक्रम में शिरकत करने वाले बुद्धिजीवी वर्ग से पूछा, भड़क गए. गुस्से से तमतमा गए. चेहरा लाल हो गया. बोले मर्यादा में रहो. हमारी भी मर्यादा है. किसी के कहने पर हम अपनी पतलून उतार कर किस बात का प्रमाण देंगे. हम पत्रकार हैं. TV पर लाखों करोड़ों जनता हमें देखती है सुनती है. हमारा मान सम्मान है. ऐसे ही पतलून उतार देंगे? हमारी मर्यादा है, हमारी शान है,, इनकी शान है, इनकी मर्यादा है, हमारा राष्ट्रगान तो हमारी जान है, हमारी धड़कन है, हम पतलून तो उतार देंगे लेकिन अपने राष्ट्रगान को अपमानित नही होने देंगे...
राष्ट्रगान की मर्यादा ही हमारी आन, शान और बान है, जिस तरह एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में किसी के उकसाने पर तू तू मैं मैं के बीच राष्ट्रगान गाया गया, शर्मनाक है, अगर आप किसी के उकसाने पर अपनी पतलून नही उतार सकते, अपनी मर्यादा के लिए तो आपकी बुद्धि, विवेक जाग जायेगी लेकिन राष्ट्रगान को जिस तरह आपने टीवी चैनल और अपनी लोकप्रियता के फायदे के लिए इस्तेमाल किया, न आपकी बुद्धि काम करी, न आपका ज़मीर जागा, किसकी मर्यादा खंडित हुई ये सवाल भी दिमाग में नही आया और video के मात्र कुछ अंश को सोशल मीडिया पर viral किया सिर्फ और सिर्फ लोकप्रियता के लिए, आगरा में ताजमहल के बाहर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सराहनीय कार्य करते हुए सड़क का कचरा तो साफ़ किया लेकिन ज़रुरत है दीमाग का कचरा साफ़ करने की,,, वो स्वछता अभियान था, लोकप्रियता के।लिए नही समाज को मोहब्बत, अमन, सुख, चैन का पैगाम देने के लिए, लेकिन राष्ट्रगान का इस तरह गया जाना सिर्फ लोकप्रियता के लिए, देश की आन, बान, शान सब कुछ दांव, क्या किसी के कहने पर आप अपनी पतलून भी उतार देते,,, एक महत्वपूर्ण पहलू ये भी है,  जिस TV चैनल ने इस कार्यक्रम का संचालन किया क्या राष्ट्रगान से सम्बंधित नियमावली से आमंत्रित अथितियों को अवगत कराया, जिस वीडियो को वायरल किया गया, उसमें जिस मुद्रा में टीवी anchor खड़े होकर राष्ट्रगान गा रहे है, क्या वो सही मुद्रा है,, ये वही टीवी चैनल है जिसके पत्रकार, कैमरामैन ने बनारस विश्वविद्यालय की साहसिक कवरेज की थी, मार भी खाये थे और अपना कीमती सामान भी गवाया था, इनके सम्मान में हम सड़क पर भी बैठे थे, इनके ज़ख्मों के वीडियो को viral करने का साहस कितनों में है,  आज भी इनको अपना कीमती सामान नही मिला है, जो कैमरा छीना गया वही आमदनी का जरिया था, इसको वायरल करिये, पूरे देश में पत्रकारों पर जो संकट है उस पर चर्चा करिये और सोशल मीडिया पर समाचार जगत पर तालाबंदी की बात करिये,, हमारे देश का राष्ट्रगान हमारी मर्यादा है, हमारा रसूख है, हमारी आन है हमारी शान है, कहीं भी, कैसे भी, किसी के कहने पर, किसी के उकसाने पर हमारी आन, हमारी शान, हमारे राष्ट्रगान को मुद्दा न बनाइये ,, अगर पतलून उतरने से आपकी मर्यादा खंडित होती है,  तो राष्ट्रगान हमारी मर्यादा है, हमारी शान है, कृपया इसको कभी भी, कही भी, कैसे भी, किसी भी Debate Show में मुद्दा न बनाये,, मुद्दे और भी है, इस जहाँ में दर्द और भी है, ,,,, मरते बच्चे है, भूखा किसान है, बेहाल व्यापारी है, मरता पत्रकार है, कलम तोड़ता कलमकार है, जाबांज़ छायाकार है, बढ़ता आतंकवाद है, बेरोज़गार नौजवान है, बंद होते कारखाने है, धर्म के नाम पर बटता समाज है ,, बिना पतलून सर्द रातों में सड़क किनारे सोता इंसान है,,,,,, मुद्दों को।छोड़कर राष्ट्रगान को लेकर जो टीवी चैनल सवाल खड़ा करता है, राष्ट्रगान पर डिबेट का आयोजन करता है , उस पर मुक़दमा दर्ज होने के साथ साथ जिसने भी इस पोस्ट को शेयर किया उस पर भी कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए, तभी रोक लगेगी ऐसे कार्यक्रम पर जो बिग बॉस जैसे कार्यक्रम।से प्रेरणा लेकर चलाये जा रहे है,, राष्ट्र गान से सम्बंधित नियमावली की जानकारी ज़रूरी है तभी राष्ट्रगान की मर्यादा और इज़्ज़त दोनों बनेगी --- अगर मेरी बात से सहमत हो तो पोस्ट को शेयर करे,,,
ORDERS RELATING TO THE NATIONAL ANTHEM OF INDIA
Whenever the Anthem is sung or played, the audience shall stand to attention. However, when in the course of a newsreel or documentary the Anthem is played as a part of the film, it is not expected of the audience to stand as standing is bound to interrupt the exhibition of the film and would create disorder and confusion rather than add to the dignity of the Anthem.
II. PLAYING OF THE ANTHEM (1) The full version of the Anthem shall be played on the following occasions: - i) Civil and Military investitures; ii) When National Salute (which means the Command “Rashtriya Salute – Salami Shastr” to the accompaniment of the National Anthem is given on ceremonial occasions to the President or to the Governor/Lieutenant Governor within their respective States/ Union Territories; iii) During parades – irrespective of whether any of the dignitaries referred to in (ii) above is present or not; iv) On arrival of the President at formal State functions and other functions organized by the Government and mass functions and on his departure from such functions; v) Immediately before and after the President addresses the Nation over All India Radio; vi) On arrival of the Governor/Lieutenant Governor at formal State functions within his State/Union Territory and on his departure from such functions; vii) When the National Flag is brought on parade; viii) When the Regimental Colours are presented; ix) For hoisting of colours in the Navy.
The Anthem shall be played on any other occasion for which special orders have been issued by the Government of India.

मोहम्मद कामरान, CTI
9335907080

Post a Comment