Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

Loading...

26.9.16

आदरणीय प्रधानमंत्री जी, पाकिस्तान से युद्ध में मैं एक सैनिक के रूप में शामिल होना चाहता हूँ

आदरणीय प्रधानमंत्री जी,

आज मेरी माँ ने पूछा कि क्या युद्ध हो सकता है? अगर हो तो बेटे तुम जरूर जाना, क्यों कि आज परिवार से ज्यादा देश को तुम्हारी जरूरत है, आजकल हमारे देश का युवा नकारात्मक होता जा रहा है, और छोटी मोटी बातों को लेकर क्राइम कर देता है, युवा अधिकतर नशा, ड्रग्स, आत्महत्या और प्रेम प्रसंग में फंसा हुआ है । और मैं चाहती हूँ, कि तुम देश प्रेम का संदेश आज के युवा को समझा सको, और इसमें तुम्हारी जान भी चली जाये, तो मुझे गर्व होगा ।

22.9.16

मधुबनी बस हादसा और विधायक की सेल्फी

Bj Bikash 
bjha45@gmail.com


बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी थाना क्षेत्र अंतर्गत सुन्दरपुर टोला के पास सोमवार को भयानक बस हादसा हुआ। बस अनियंत्रित होकर पोखरे में गिर गई। हादसा इतना भयानक था की बस में सवार सभी 50 से अधिक यात्रियों के मरने की आशंका जाहिर की गई। जबकि आंकड़ो के हिसाब से हादसे के एक दिन बाद तक लगभग 40 शव को पोखरे से निकाला जा चूका है। हादसे के बाद से पुरे इलाके में चीख-पुकार मची थी। सभी यात्रियों के परिजन इधर उधर दौड़ भाग रहे थे। घटना सोमवार को करीब 11 बजे हुई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की घटना का कारण एक साईकिल सवार युवक की जान बचाने में हुई। बस की गति इतनी तेज थी की बस पोखरे में जाते ही इतनी अन्दर तक डूब गई की बस दिकाही भी नहीं दे रहा था। घटना के समय बस के ड्राईवर अभय चौधरी और खलासी बिल्टू सहनी बस से कूद कर भाग गया। पुलिस जाँच में मंगलवार को खलासी बिल्टू साहनी को पुलिस ने मधुबनी के जयनगर से गिरफ्तार कर लिया है। जबकि ड्राईवर अभय चौधरी अभी भी गिरफ्त से बाहर है।

उम्मीद की किरन मगर तलाशता हूं मैं...

कवि डी एम मिश्र के गजल संग्रह का विमोचन व परिसंवाद ...

विमल किशोर

जन संस्कृति मंच की ओर से हिन्दी के चर्चित कवि डी एम मिश्र ;सुल्तानपुरद्ध के नये गजल संग्रह ‘आईना-दर-आईना’ का विमोचन 15 सितम्बर 2016 को लखनऊ के जयशंकर प्रसाद सभागार, कैसरबाग में किया गया। कार्यक्रम का आरम्भ लोक गायिका व गजलकार डा. मालविका हरिओम के डी एम मिश्र की गजलों के सस्वर पाठ से हुआ। उन्होंने पहली गजल ‘मुहब्बत टूटकर करता हूं मगर अंधा नहीं बनता, खुदा से भी अपना प्यार इकतरफा नहीं करता।’ इसके बाद दूसरी गजल ‘कभी लौ का इधर जाना कभी लौ का उधर जाना, दीये का खेल है तूफान से अक्सर गुजर जाना’ सुनाकर खूब तालियां बटोरीं। उन्होंने कहा कि श्री मिश्र की गजलें अदम गोंडवी की परंपरा को आगे ले जाती हुई दिखती हैं। उनकी रचनाएं प्रगतिशीलता का परिचायक हैं।

Letter to CMD Air India

Dear Journo Frens

we are pleased to announced that a Letter being handed over to CMD, Air India, Mr. Ashwani Lohani, by Vice President, Press Association, Delhi, Mr. Shishir Soni, seeking priority on spot ticketing of AI and 50 percent concession to the working Journalists travelling to AI.

14.9.16

Stop insulting Bharat Mata, Stop raping Womens because of their Religion

Are you a Muslim Women? Do you eat beaf ? If yes, then few people belonging to hindu community would gangrape you, They will gang rape your daughters, who are under aged. Those arrested for murder or rape would soon be liberated. This is india, a country where idols of women are worshipped by hindus. But when it comes to Muslim womens they are free to rape them.

13.9.16

मोदी के इंटरव्यू के दौरान टॉप पर रहा IBN7, आज तक, इंडिया TV को पछाड़ा

नई दिल्ली। 2 सितंबर, शुक्रवार रात 9 बजे जिस वक्त IBN7 न्यूज चैनल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू टेलिकास्ट हुआ, IBN7 देश के तमाम हिंदी समाचार चैनलों को पीछे छोड़ते हुए नंबर-1 रहा। बीएआरसी के आंकड़ों के मुताबिक, IBN7 ने इस इंटरव्यू के दौरान आज तक, इंडिया टीवी, एबीपी और जी न्यूज जैसे हिंदी चैनलों को पीछे छोड़ दिया।

पत्रकारों से भिड़ा भाजपा नेता, माफी मांगने की लगा रहा गुहार

चन्द घंटों में उतरा नेतागिरी का भूत, हजार रुपये के विज्ञापन का पैसा बाकी.. आपराधिक मुकदमों में लम्बा चौड़ा इतिहास, विवादों से पुराना नाता, भाजपा की छवि पर दाग लगाता नेता, चुनाव से पहले पत्रकारों से बैर...

ऊधमसिंह नगर। जहां एक ओर भाजपा पार्टी अपने अनुशासन और शिष्टाचार की दुहाई देती नहीं थकती है और ऐसे दावा किया जाता है जैसे मानों इस राजनीतिक दल को छोड़ इनसे अच्छा और कोई नहीं ? तो वहीं दूसरी ओर जनपद यूएस नगर के किच्छा विधानसभा में एक भाजपा नेता कहलवाने वाला नेता अपनी ही पार्टी की छवि पर दाग लगा रहा है और अनुशासन की धज्जियां उड़ा अपने आपको पार्टी से बड़ा होने का दाम भर रहा है, जहां एक ओर वो खुले आम पत्रकारों पर अपनी दबंगता दिखाने से बाज नहीं आ रहा है तो वहीं उसको देख आवाम के मन में सवाल उठ रहा है कि जो भाजपा अनुशासन की दुहाई देती नहीं थकती है तो आखिर उसी पार्टी में ये नेता कैसे बना हुआ है जो पत्रकारो पर ही अपनी दबंगता दिखाने से बाज नहीं आ रहा है और खुलेआम हुंकार भरता है देख लेने की धमकी दे रहा है।

हिंदुस्तान और हिंदुस्तान टाइम्स में कर्मियों से यह फार्म साइन कराया जा रहा



खाट कांग्रेस की लुटी, बदनाम गरीब हो गया

अजय कुमार, लखनऊ
   
खाट कोई लूट रहा है और तोहमत किसी और पर लगाई जा रही है। खाट लूट कांड में कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी गरीबों को बदनाम कर रहे हैं, जबकि वह जानते हैं कि खाट पर बैठने और उसे लूटने वाले दोंनो ही कांग्रेसी थे, जिन्हें राहुल की खाट पंचायत के लिये विशेष तौर पर आमंत्रित किया गया था। इसी लिये राहुल गरीबों की आड़ में कांग्रेसियों के कुकर्माे पर पर्दा डाल रहे हैं। जिन्होनंे दशकों तक देश को लूटा वह लोग ही सत्ता से बाहर होने पर खाट लूट काड को अंजाम दे रहे हैं। गरीब मंे अगर लूटपाट करने की हिम्मत होती तो वह ताउम्र गरीबी का दर्द क्यों सहता रहता, जो गरीब आजादी के 70 वर्षाे के बाद भी अपना वाजिब हक नहीं हासिल कर सका, वह खाट लूट की हिम्मत कैसे कर सकता है ?

जियो सिम ब्लैक होने का बड़ा अड्डा बना उत्तर प्रदेश का बरेली

जियो सिम के चक्कर में घण्टों लाइन फिर भी हाँथ लगता है धोखा, स्टोर की प्रक्रिया बनाई गई जटिल और अपारदर्शी ताकि लोग खरीदें ब्लैक में सिम


रामजी मिश्र 'मित्र'

बरेली (उत्तर प्रदेश) /जबसे जियो सिम आया है तबसे इसकी चर्चा थमने का नाम नहीं ले रही। इसके चर्चा की बड़ी वजह बना है इसका फ्री बताया जाना। और तो और तीन महीनो तक तमाम सुविधाओं का भी मुफ्त मिलना इसकी जोरदार चर्चा का बड़ा कारण बनकर उभरा है। जियो सिम के बाजार में उतरते ही लोगों का हुजूम इसे पाने के लिए जगह जगह उमड़ने लगा और यही से शुरू हुआ जियो की ब्लैक मार्केटिंग का फलता फूलता धंधा। जानने में यह बात भले ही अटपटी लगे लेकिन जियो सिम मुफ्त में पाना जीतनी टेढ़ी खीर है इसे ब्लैक में उतनी ही आसानी से पाया जा सकता है। जियो सिम की सबसे ज्यादा तादाद में कालाबाजारी इन दिनों उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में हो रही है। जियो सिम में मुफ्त में मिल रही तमाम सेवाओं के चलते सिम को पाने के लिए बड़ी तादाद में ग्राहक तैयार हो चुके हैं जिसे अब काला बाजारी के दलालों को सीधा लाभ मिलना शुरू हो गया है।




यूं ही कोई अपने कपड़े नहीं उतरवाता!

अक्षय जैन

दुनिया में ता़कतवर तो हर कोई होना चाहता है, नंगा कोई नहीं होना चाहता। यह नियम अमरीका पर लागू नहीं होता। नंगा होने में और दूसरे को नंगा करने में अमरीका का मु़काबला दुनिया का कोई मुल़्क नहीं कर सकता। जो लोग हिंदुस्तान में तीसमारखां बनते हैं, अमरीका के एयरपोर्ट पर अपने कपड़े उतारने में एक मिनट की भी देर नहीं लगाते। य़कीन न हो, तो शाहरु़ख खान से पूछ लीजिये।

काश... मैं 30 साल का होता!

राजेश ज्वेल

अपनी मोबाइल सेवा जियो की धमाकेदार लॉन्चिंग के साथ रिलायंस प्रमुख मुकेश अम्बानी एक बार फिर सुर्खियों में हैं... देशभर के स्मार्ट मोबाइल फोन धारक इन दिनों जियो सिम कबाडऩे की जुगत में भिड़े हैं और तमाम रिलायंस डिजीटल स्टोर्स के बाहर कतारें लगी हैं। सालों से टेलीफोन और मोबाइल कम्पनियां उपभोक्ताओं को लूटती आ रही है। ऐसे में जियो के ऑफर काफी ललचाने वाले हैं। हालांकि मुकेश अम्बानी भी पक्के कारोबारी हैं और जियो के जरिए भी वे कोई समाजसेवा तो करने नहीं निकले हैं... मुनाफा जरूर कमाएंगे, लेकिन पूरे मार्केट पर कब्जा कर लेंगे। जानकारों ने अभी जो गणित-ज्ञान लगाकर बताया, उसके मुताबिक प्रति उपभोक्ता औसतन 180 रुपए की बिलिंग पर जियो घाटे की दुकान साबित नहीं होगा और मेरे हिसाब से तो 180 रुपए का औसत बिल बहुत अधिक नहीं है। अभी सामान्य रूप से ही मोबाइल पर इंटरनेट का इस्तेमाल करने पर 1000-800 रुपए से कम का खर्चा नहीं आता।

निसबड ने माना सोशल मीडिया मार्केटिंग को एक स्किल

नोएडा। आज के दौर में अगर कोई माध्यम है जो अपनों को और अनजानों को एक समान जोड़ता है तो वो है सोशल मीडिया। भला आज ऐसा कौन है जो सोशल मीडिया पर नहीं। व्हाट्सएप, फ़ेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब जैसे सोशल नेटवर्किंग के तरीके घर-घर में अपनी जगह बना चुके हैं। कई लोग तो दिन की शुरुआत ही फ़ेसबुक पर पोस्ट देखकर करते हैं। वहीं बहुत से लोगों के लिए तो दिन का आखिरी पहर भी सोशल मीडिया पर ही होता है।

हिंदी दिवस पर विशेष लेख : स्वाधीन चेतना की भाषा हिन्दी की उपेक्षा क्यों?

मनोज कुमार

हिन्दी को लेकर भारतीय मन संवेदनशील है लेकिन उसका गुजारा अंग्रेजी के बिना नहीं होता है। सालों गुजर गए हिन्दी को राष्ट्रभाषा का मान दिलाने का प्रण ठाने लेकिन हिन्दी आज भी बिसूरती हुई अपनी हालत पर खड़ी है। हर साल सितम्बर का महीना हिन्दी के नाम होता है और बाकि के 11 महीने अंग्रेजी को समर्पित। ऐसे में हिन्दी को जनभाषा के रूप में प्रतिष्ठापित किये जाने की जो कवायद है, वह आयोजनों तक ही रह गई है। कल तो इलीट क्लास के लोग अपने बच्चों को अंग्रेजी स्कूल में पढ़ाते थे, अब निम्र आय वर्ग भी अंग्रेजी स्कूलों के मोहपाश में बंध गया है। आखिर यह स्थिति आयी क्यों, इस पर चिंतन की जरूरत है। यह क्या गर्व की बात है कि हम कहते हैं कि हमारे प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति अमुक मंच से हिन्दी में भाषण देकर आए हैं और उनमें भी चुनिंदा नाम गिनाये जाते हैं। जब भारत वर्ष की भाषा हिन्दी है तो किसी ने हिन्दी में भाषण देकर अपनी परम्परा को आगे बढ़ाने का काम किया है बल्कि हमें तो बार बार इस बात की आलोचना की जाना चाहिए कि अमुक राजनेता अपनी भाषा छोडक़र अंग्रेजी में बात कर रहा है। जिस दिन हम अपनी इस सोच में बदलाव करेंगे, हिन्दी की दशा और दिशा दोनों ही बदल जाएगी।

8.9.16

Bjp has crossed all levels of Hypocrisy

In my view  there should be a limit to hypocrisy and fascism. Congress is just standing as a mute spectator. Bjp has crossed all levels of Hypocrisy. It has banned Beef in many of indian  states. It is isolating and mob lynching Muslims who are rumored to have eaten Beef. My question to  phadnivis is,  if a muslim is found eating or carrying beef , He would be sent to jail.

बिहार की मीडिया का मजाक उड़ाता न्यूज़ ऑफ़ बिहार वेब पोर्टल




nidhi kashyap 
कुछ दिन पहले ही शुरू हुए वेब पोर्टल न्यूज़ ऑफ़ बिहार इन दिनों काफी चर्चा में है चर्चा का विषय  है समाचार में लिखी जा रही गलतिया, गलतिया भी ऐसी की मुख्यमंत्री नितीश कुमार तक को नहीं बक्शा, न्यूज़ का स्लग था "बाढ़ राहत शिविर में नितीश ने किया महादलित  महिला का दुष्कर्म" न्यूज़ का लिंक फेसबुक पर शेयर होते ही बात पुरे मीडिया में फ़ैल गयी, न्यूज़ ऑफ़ बिहार के इस घटिया रिपोर्टिंग के लिए लोगो के कमेंट भी आने सुरु हो गए थे, कुछ मीडिया कर्मी ने पोर्टल के कार्यालय में फ़ोन किया तब जा के पोर्टल ने न्यूज़ डिलीट कर दिया,

जिम्सी के सभी मित्रों और अध्यापकों से माफी चाहता हूं....


माफी चाहता हूँ अपने सभी अजीज मित्रों से और जिम्सी के सभी अध्यापकों से माफ़ करना या मत करना ये आपकी स्वतंत्र मानसिकता है .. मै इसके सिवा आपसे कुछ और नही कह सकता हूँ क्यों मुझे माफ़ी मागने अलावा कोई दूसरा अधिकार मेरे पास नही है .......कालेज के दिनों में जो सीखा पढ़ा लिखा वो सब मेरे साथ ही शायद समाप्त होजायेगा ,,, मेरा परिवार किसी को भी दोषी नही ठहरायेगा ,,,क्योंकि उनको कोई जानकारी ही नही है ,,,,,,,,,

संपादक ने पैसे लेकर रोकी खबर! शिकायत पर आई जांच टीम

पत्रिका होशंगाबाद के संपादक हरमिंदर लूथरा की खनन माफिया के साथ साठगांठ खबर रोकने की शिकायत प्रबंधन और डायरेक्टर से हुई है। इसमें उनकी ही कंपनी के एक पूर्व रिपोर्टर ने दर्जनों दस्तावेजों के साथ शिकायत की है। माफिया से साठगांठ के खुलासे के बाद पत्रिका प्रबंधन सकते में आ गया है। उसने लूथरा के खिलाफ जांच दल का गठन किया है।










The New Constitution of India

Markandey Katju 

A long time has expired since 1950 when the Indian Constitution was made, and it has now become necessary to frame and promulgate a new Constitution in view of the changed circumstances. Hence this new Constitution has been drafted by the best legal minds of India, and submitted to the people for their approval.

संपादक बड़ा या पप्पू?

एक बड़े अख़बार के गेट के सामने एक प्रसिद्ध समोसे की दुकान थी. लंच टाइम मे अक्सर अख़बार के कर्मचारी वहाँ समोसे खाया करते थे. एक दिन अखबार के संपादक समोसे खाते खाते समोसेवाले (पप्पू) से मजाक के मूड मे आ गये. संपादक ने समोसेवाले से कहा, "यार पप्पू, तुम्हारी दुकान तुमने बहुत अच्छे से मेंटेन की है. लेकिन क्या तुम्हें नहीं लगता के तुम अपना समय और टॅलेंट समोसे बेचकर बर्बाद कर रहे हो? सोचो अगर तुम मेरी तरह इस कंपनी में काम कर रहे होते तो आज डी एनई या एन ई होते..