Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

7.5.18

चुनाव 2019 की तैयारी और मेरी सोच

इस वक्त ज़ोरो शोरों से 2019 के चुनाव की तैयारी की जा रही है। ये देखना दिलचस्प होगा कि क्या बाजी भाजपा मारती है या कांग्रेस। या फिर सपा और बसपा की गठबंधन वाली सरकार???? जहां एक ओर चुनाव 2019 के लिए रैलियों की तैयारी शुरू हो गयी है तो वहीं दूसरी ओर विपक्ष मोदी के 4 साल का हिसाब किताब बताकर भाजपा पर कड़ा प्रहार कर रहे हैं।


एक तरफ राहुल गांधी कहते है कि मोदी संसद में आने से डरते हैं तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता आनंद शर्मा कहते है कि त्रिपुरा के सीएम पान की दुकान तो मोदी जी पकौड़े तलने को रोज़गार कहते है। उन्होंने ये भी कहा कि मैं ये नही कहता कि ये गलत काम है लेकिन जो रोजगार उन्होंने देने का वादा किया था ये वो नही। कहाँ है उनके 8000 रोज़गार? कोई भी भाजपा पर कटाक्ष करने का मौका नही छोड़ रहा है। इन सबके बीच में कर्नाटक विधानसभा चुनाव को कौन जीतेगा ये भी सोचने वाली बात है फिलहाल तो प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को ही अपने कई रैलियों का आगाज कर चुके हैं। अपना दाव फेक दिया है।

कर्नाटक चूकि कांग्रेस का गढ़ है इसलिए भाजपा अपनी रैलियों में कितना सफल हो पाते हैं ये तो परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा। लेकिन मोदी जी आखिर उनलोगों का मुँह कैसे बंद करेंगे जो उनके कार्यों पर सवाल उठा रहे है। अभी हाल ही में योगी सरकार के एक मंत्री ने दलित के यहाँ खाना खाने को मजाक बना दिया है। कहने को तो दलित के यहां भोजन पर गए लेकिन एबीपी न्यूज़ के माध्यम से यही पता चला कि वो खाना होटल से मंगवाया गया था । आखिर इसका क्या असर पड़ेगा योगी सरकार पर जो सवालों के घेरे में आ गयी है या यूं कहें कि इसका क्या असर होगा भाजपा पर?

प्रस्तुति-

अनामिका पांडेय

p.anamika12345@gmail.com

Post a Comment