Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

19.4.11

चाचा नेहरु खानदान को बदनाम करने की साजिश

नेहरु खानदान को बदनाम करने की साजिश


यह क्या बकवास है ?

चाचा नेहरु (शहीदों के ) खानदान को बदनाम करने की साजिश

पूछ रहे हैं , नेहरु के दादा का नाम, गंगाधर था या गयासुद्दीन गाजी ?

इतना बरा खानदान , क्या लोग उसकी दस पीढ़ियों को नहीं जानते,

अरे इसमें क्या है , तुम्हें शक है तो उनके दादा का नाम कहीं से पता कर के दिखाओ .

मुझसे क्या पूछते हो , इंटरनैट है ना खुद ही देख लो

क्या मुस्लिम से हिंदू बनने में कोई रुकावट है, और बन गए तो क्या .

नेहरु ने साफ़ कहा, तुम हिंदू पर ज्यादा मत इतराओ ,

i am hindu by chance.

(बाद में लोगों ने समझाया , ऐसे मत कहो , इससे तो गाली अपनी माँ को ही जाती है)

क्या दिल्ली से भाग कर , मुस्लमान बने रह कर , अंग्रेजों से खाल उधढ़वानी थी .

और मुश्किल भी क्या , नहर के किनारे वाले तो नेहरु ही होते हैं न.

और जब कुछ नहीं मिला तो हमारी जात पर उतर आये

अरे जात न पूछो साधू की , पूछ लीजिए ज्ञान .

अगर हम काबिल थे तभी प्रधान मंत्री बने,

हमारा खानदान ही प्रधान मंत्रियों का है.

और हमारी बहू तो हमसे भी आगे निकली . जिस देश ने उसके पति की जान ली उसकी भी सेवा का ब्रत लिया हुआ है . पर जलने वाले जलेंगे ही . यह देश एहसान फरामोशों का है .

हिम्मत है तो कुछ बन कर दिखाओ .

उसने सोचा हजारे बुढा भूका ही न मर जाये , उसकी बात मान ली.

इतने कानून आज तक भ्रष्टाचार का बाल भी बांका नहीं कर सके, एक और सही .

जय हिंद


1 comment:

vishwajeetsingh said...

गयासुद्दीन के खानदान का सच्चा खुलासा । गांधी जैसे व्यक्ति को भी नेहरू ने साम्प्रदायिक तुष्टिकरण की राजनीति करने पर मजबूर कर दिया जिसकी परणिती भारत विभाजन के रूप में हुई । कुल मिलाकर नेहरू वंश स्वार्थीयों का वंश हैं । इस मुद्दे को उठाकर आपने अच्छा किया , आखिर जनता को भी देश के गद्दारों का सच जानने का अधिकार हैं ।
गौहत्या बंदी के खिलाप गांधी - नेहरू परिवार
www.vishwajeetsingh1008.blogspot.com