Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

21.2.10

हो गई जोगन

सखियाँ खेलन को आई
बन के सजना,
मैं ना खेलूंगी तुम संग
करो मोहे तंग ना।
----
साजन के रंग में रंगकर
साजन की हो ली,
तू तो हो गई री जोगन
खेले ना होली।
----
घर घर धमाल मचाए
सखियों की टोली,
साजन परदेश बसा है
कैसी ये होली।

1 comment:

manav vikash vigyan aur adytam said...

ho gayee jooga bahoot he badiya