Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

3.10.16

डेंगू, चिकनगुनिया, वायरल का होम्योपैथिक उपचार जानिए

लेखक : डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

इन दिनों देशभर में डेंगू, चिकनगुनिया और वायरल फीवर ने कहर बरपा रखा है। देश के समर्पित डॉक्टर इन बीमारियों से पूरी निष्ठा के साथ लड़ रहे हैं। जिसके परिणामस्वरूप हम हमारे अपनों को इन बीमारियों के कहर से बचा पा रहे हैं। यद्यपि बीमारी के दौरान और बीमारी के उपचार के बाद जो हड्डीतोड़ दर्द उठने-बैठने, चलने-फिरने और नैतिक क्रियाकर्म तक करने में बाधक बन रहा है, वह केवल दर्द-निवारक दवाओं के भरोसे छोड़ा जा रहा है। जो कतई भी उचित नहीं है। ऐसे रोगियों की दशा गठिया के रोगियों की जैसी हो जाती है, क्योंकि गठिया में भी असहनीय दर्द होता है, लेकिन गठिया से सामान्यत: कोई मरता नहीं और इस दर्द से भी कोई मरता नहीं है। इसी कारण डॉक्टर और परिजन भी ऐसे रोगियों के दर्द के प्रति अगम्भीर रहते हैं। यह स्थिति ऐसे रोगियों के साथ क्रूरतम अन्याय से कम नहीं।


इस स्थिति से लड़ने में होम्योपैथी की अनेक दवाईयाँ काफी सीमा तक सफल हैं। बशर्ते हम किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में सही दवा का चयन कर सही से सेवन कर सकें।
कुछ प्रमुख और अत्यन्त उपयोगी होम्योपैथिक दवाईयों का उल्लेख मैं यहाँ कर रहा हूँ :—

सर्वप्रमुख दवाई : यूपेटोरियम परफोलियेटम

सूचक लक्षण : छींकें, जुकाम, तेज सिर दर्द, बुखार के साथ सारे बदन में कहीं भी दर्द या सभी मांसपेशियों में दर्द, सभी जोड़ों और हड्डी-हड्डी में असहनीय तेज दर्द। रोगी आराम से पड़ा रहने पर भी बेचैन, दु:खी और उदास रहता है। तेज हड्डीतोड़ दर्द होने पर भी पसीना बहुत कम या बिलकुल नहीं। बुखार में शीतावस्था आने से बहुत पहले अधिक प्यास और हड्डियों में दर्द शुरू होना।

विचित्र लक्षण : सिर दर्द और शरीर के जोड़ों का दर्द पर्याय क्रम में अदलता-बदलता रहता है। अर्थात् जैसे-जैसे सिरदर्द बढता जाता है, वैसे-वैसे जोड़ों का दर्द घटता जाता है। जोड़ों का दर्द बढता है और सिरदर्द कम होता जाता है। आदि।
दवाई की शक्ति : 30
मात्रा : 2—2 बूंद सुबह—शाम खाली पेट।
अवधि : 3 से 5 दिन या ठीक होने तक।
नोट : जिस बुखार में हड्डियों में तेज दर्द का प्रमुख लक्षण नहीं हो तो यूपेटोरियम परफोलियेटम कोई काम नहीं करेगी।

दूसरी प्रमुख दवाई : ब्रायोनिया

सूचक लक्षण : हड्डियों में दर्द, लेकिन इस दवा का हड्डियों में दर्द प्रमुख लक्षण नहीं है। रोगी बिना बेचैनी के आराम से पड़ा रहकर आराम पसन्द। दर्द में हरकत से वृद्धि और विश्राम से कमी। यहां तक कि हिलने-डुलने से भी तकलीफ में बढोतरी। क्रोधी और चिड़चिड़ा स्वभाव। खुश्की के साथ सूखे होंठ। तेज प्यास। देर-देर में, ज्यादा-ज्यादा, भर-भर गिलाश ठंडे पानी की प्यास/देर-देर में, ज्यादा-ज्यादा प्यास हो तो दवाई-एकोनाइट है। बन्द कमरे में रोगी की तकलीफें बढती हैं और खुली हवा उसे अच्छी लगती है।

विचित्र लक्षण : 'रोगी का दिल तो आराम से लेटने/पड़े रहने को चाहता है, लेकिन दर्द लेटने नहीं देता' इस स्थिति में भी हिलने-डुलने से तकलीफ वृद्धि इस दवा का प्रमुख लक्षण है।

दूसरा विचित्र लक्षण : 'बदन के जिस अंग में जिस ओर दर्द हो, उस तरफ लेटे रहने से दर्द में आराम।' आदि।

दवाई की शक्ति : 30
मात्रा : 2—2 बूंद सुबह—शाम खाली पेट।
अवधि : 3 से 5 दिन या ठीक होने तक।

तीसरी प्रमुख दवाई : रस टॉक्स

सूचक लक्षण : मांसपेशियों, पुठ्ठों, कमर में असहनीय दर्द। रोगी की हड्डियों में भी दर्द होता है, लेकिन यह दर्द मांस तंतुओं और जोड़ों का होता है। रोगी को गर्मी, सूखी हवा, गर्म सेंक और हरकत से दर्द और तकलीफों में आराम मिलता है। जबकि आराम करने, ठंडे पानी, नम हवा, ठंड, ठंडी हवा, बरसाती मौसम, पसीना दबने से रोग/तकलीफों में वृद्धि होती है। रोगी को शुरू में चलने या हरकत करने से दर्द/तकलीफ बढना अनुभव होता है, लेकिन लगातार चलते रहने से बदन में गर्मी आ जाती है, जिससे दर्द/तकलीफ में आराम अनुभव होता है। रोगी में बेचैनी देखने का मिलती है, लेकिन बेचैनी के साथ उत्तेजना की प्रबलता हो तो सही दवाई एकोनाइट और बेचैनी के साथ कमजोरी का लक्षण हो तो आर्सेनिक एल्बम सही दवा है। जहाँ तक रस टॉक्स के रोगी की बेचैनी का सवाल है, इसमें न तो उत्तेजना होती है और न ही कमजोरी होती है, बल्कि इसकी बेचैनी के साथ में मांसपेशियों में पीड़ा और दर्द का होना विशेष सूचक लक्षण है। आदि।

दवाई की शक्ति : 30
मात्रा : 2—2 बूंद सुबह—शाम खाली पेट।
अवधि : 3 से 5 दिन या ठीक होने तक।
उक्त दवाईयों के अलावा लक्षणों के अनुसार होम्योपैथी की निम्न दवाईयां भी रोगी को दी जा सकती हैं:—

जेल्सीमियम—प्यास की कमी या प्यास का अभाव। प्यास रहित ज्वर। मेरुदंड में ऊपर-नीचे शीत का उतरना-चढना। सुस्ती, निद्रलुता-रोगी नींद सी में पड़े रहना। ज्वरावस्था के दौरान रोगी में कमजोरी, थकान, प्यास का अभाव, शीतावस्था में और बिना शीत के भी कंपकंपी और बार-बार पेशाब आना। अचानक अप्रिय समाचार की सूचना से भयग्रस्त हो जाना। सभी अंगों में दुर्बलता, मांसपेशियों में शिथिलता। आदि।

नक्स वोमिका—रोगी के मानसिक लक्षण प्रमुख, जैसे—उद्यमी, झगड़ालू, चिड़चिड़ा, कपटी, प्रतिहिंसाशील, जिस काम को हाथ में लेता है, उसमें जी-जान से जुट जाना और तुरत-फुरत काम को पूरा कर डालना। हर काम में दूसरों से आगे। हर काम में चुस्त, चौकन्ना, सावधान, प्रखर बुद्धि, कार्यपटु, उत्साही, जोशीला, अपनी बात दूसरों से मनमाने वाला। साथ ही बड़ा ही नाजुक मिजाज। मिर्च-मसाले और दूध-घी का प्रेमी। धीरे-धीरे सहजता से किसी काम को करना आदत में नहीं। मानसिक कार्यों में लगे रहना, लेकिन चलने-फिरने से कतराना। ऊंची आवाज, तेज रोशनी, हवा का तेज झोंका को बर्दाश्त नहीं कर सकता। भोजन में मीन-मेख निकालना। सिर लपेटने से आराम। ठंड से तकलीफ बढना। भोजन के 2-3 घंटे बाद पेट की तकलीफें बढना। कब्ज रहना, पेट साफ नहीं होना। भोजन के बाद नींद की विवशता। बुखार का हर बार समय से पहले आना। महिलाओं में महावारी समय से पहले आती है। आदि। यह दवाई रात्री सोते समय ही दी जानी चाहिये।

बेलाडोना—भयंकर उत्ताप, भयंकर रक्तिमा/लाली और भयंकर जलन ये तीन प्रमुख सूचक लक्षण हैं। जो सूजन, आंख दु:खने, बवासीर, गठिया, जोड़ों के दर्द में पाये जाते हैं। रक्त संचय से भयंकर सिर दर्द। दर्द एकदम आता है और एकदम जाता है। प्रकाश, आवाज, शोर, गंध, स्पर्श/छुअन सहन नहीं होना। मूत्राशय भरा होने पर भी पेशाब आसानी से नहीं निकलता। ढके हुए स्थान पर पसीना आना। रोगी को नींबू की चाहत होती है और नींबू के सेवन से तकलीफ में राहत भी मिलती है। आदि।

इपिकाक—रोगी को कोई भी तकलीफ हो अगर वमन/कय/उल्टी से पहले और वमन करने के बाद भी वमन करने की इच्छा बनी रहे तो इपिकाक सर्वोत्तम दवाई है। खुली हवा में तकलीफों में कमी आना और गर्मी या तर हवा में तकलीफें बढना। आदि।

आर्सेनिक एल्बम—किसी भी तकलीफ के दौरान रोगी को-बेचैनी, घबराहट, मृत्युभय और अत्यन्त कमजोरी अनुभव होना इस औषधि के सर्वप्रमुख लक्षण हैं। रोगी को अत्यधिक प्यास लगती है, लेकिन फिर भी रोगी अधिक पानी नहीं पीता, बल्कि बार-बार थोड़ा-थोड़ा पानी पीता है। ज्वरावस्था में रोगी प्यासा होता है, लेकिन पानी पीना नहीं चाहता है, क्योंकि पानी पीने से उल्टी/कय/वमन आ जाती है। फिर भी उसकी प्यास इतनी जबरदस्त होती है कि वह न चाहते हुए भी थोड़ा-थोड़ा पानी पीता जाता है। रोगी के आन्तरिक अंगों से निकलने/बहने वाला स्त्राव जलन पैदा करने वाला होता है। रोगी साफ-सफाई पसन्द करता है। रोगी एक जगह टिक नहीं सकता।
विचित्र लक्षण : रोगी का बदन दूसरों के लिये ठंडा, लेकिन खुद रोगी ताप/जलन का अनुभव करता है। इसके साथ-साथ रोगी को किसी भी अंग/रोग में जलन होने पर भी गर्मी/सेंक/गर्म चाय आदि से आराम मिलता है।

चायना या सिनकोना—होम्योपैथी के आविष्कार का इतिहास इसी दवाई से जुड़ा हुआ है। ज्वर में शीत या पूर्ण उत्ताप की स्थिति में रोगी को प्यास लगे को इस दवाई को कभी नहीं देना चाहिये। बल्कि इसके रोगी को शीत शुरू होते ही प्यास जाती रहती है। हां पसीना आने पर रोगी को खूब प्यास लगती है। सम्पूर्ण पेट में हवा का गोला सा भरा रहना और डकार आना, लेकिन आराम नहीं आना, इस दवाई का प्रमुख लक्षण है। शरीर से जीवनरक्षक द्रव्यों के बह जाने के कारण आयी दुर्बलता को दूर करने वाली यह अमूल्य दवाई है। आदि।

सावधानी/चेतावनी : उक्त या अन्य किसी भी दवाई का सेवन करने से पूर्व किसी चिकित्सक से परामर्श कर लेना उचित होगा।

किसी भी तरह की समस्या या उलझन हो तो आप मुझे बिना संकोच के फोन करें मेरा मो./वाट्स एप नंबर है : 09224359159.

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
9875066111/11.09.2016
मेरी फेसबुक आईडी : https://www.facebook.com/NirankushWriter
मेरा फेसबुक पेज : https://www.facebook.com/nirankushpage/
पूर्व प्रकाशित आलेख और अन्य स्वास्थ्य सामग्री पढने के लिए : http://www.healthcarefriend.in/
हमारा मकसद साफ! सभी के साथ इंसाफ!!
Our goal is clear! Justice to all!!
जय भारत। जय संविधान।
नर-नारी, सब एक सामान।
मेरा संक्षिप्त परिचय :
सेवासुत डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश' मीणा
आदिवासी परिवार में जन्म। मूलवासी-आदिवासी : रियल ऑनर ऑफ़ इंडिया-Indigenous-Aboriginal : Real Owner of India.
मैं-आस्तिक हूँ, अन्धविश्वासी नहीं। धार्मिक हूँ, पाखण्डी नहीं। बुद्धानुयाई हूँ, बुद्धिष्ट नहीं। भारतीय हूँ, हिन्दु या हिन्दुस्थानी/हिन्दुस्तानी नहीं। संविधानवादी हूँ, अम्बेडकरवादी नहीं।
तीसरी कक्षा के बाद पढाई छूटी! बाद में नियमित पढाई केवल 04 वर्ष!
जीवन के 07 वर्ष बाल-मजदूर एवं बाल-कृषक।
निर्दोष होकर भी 04 वर्ष 02 माह 26 दिन 04 जेलों में गुजारे। जेल के दौरान-कई सौ पुस्तकों का अध्ययन, कविता लेखन किया एवं जेल में ही ग्रेज्युएशन डिग्री पूर्ण की!
20 वर्ष 09 माह 05 दिन रेलवे में मजदूरी करने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृति!
हिन्दू धर्म, जाति, वर्ग, वर्ण, समाज, कानून, अर्थ व्यवस्था, आतंकवाद, नक्सलवाद, राजनीति, कानून, संविधान, स्वास्थ्य, मानव व्यवहार, मानव मनोविज्ञान, दाम्पत्य, आध्यात्म, दलित-आदिवासी-पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक उत्पीड़न सहित अनेकानेक विषयों पर सतत लेखन और चिन्तन!
विश्लेषक, टिप्पणीकार, कवि, शायर और शोधार्थी!
छोटे बच्चों, वंचित वर्गों और औरतों के शोषण, उत्पीड़न तथा अभावमय जीवन के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययनरत!
लेखन एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में एकाधिक सम्मानों से विभूषित।
परम्परागत औषध उपचारक, होम्योपैथ और दाम्पत्य विवाद सलाहकार।
मुख्य संस्थापक तथा राष्ट्रीय अध्यक्ष-‘भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान’ (BAAS), राष्ट्रीय प्रमुख-हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन, नेशनल चेयरमैन-जर्नलिस्ट्स, मीडिया एंड रायटर्स एसोसिएशन (JMWA), मुख्य प्रबंध संचालक-राष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो.कॉम (NACB), पूर्व राष्ट्रीय महासचिव-अजा/जजा संगठनों का अ.भा. परिसंघ, पूर्व अध्यक्ष-अ.भा. भील-मीणा संघर्ष मोर्चा एवं पूर्व प्रकाशक तथा सम्पादक-प्रेसपालिका (हिन्दी पाक्षिक)।
पता : 7, तँवर कॉलोनी, खातीपुरा रोड, जयपुर-302006, राजस्थान मोबाईल/वाट्स एप नम्बर : 9875066111
24.09.2016

==============================



डेंगू से हो रहीं मौतों का आतंक! क्या करें?
======================

इन दिनों देशभर में हर ओर डेंगू का आतंक। डेंगू से हो रही अकाल मौतों के कारण हर कोई भयभीत है। यहां हमें इस बात को भी समझना होगा कि हमारी लापरवाही के कारण बढते जा रहे गन्दगी के साम्राज्य और गंदे पानी के कारण ही डेंगू फैलाने वाले मच्छर बढ़ रहे है। सरकारी अमले की निष्क्रियता, लापरवाही और असंवेदनशीलता के प्रति जनप्रतिनिधियों व सरकार का मौन भी डेंगू फैलने का बड़ा कारण है। याद रहे डेंगू वायरस के संक्रमण से होता है।

डेंगू होता क्या है?

लक्षण : अचानक पसीना युक्त बहुत तेज बुखार, रक्तचाप की कमी,  आँखों में लाली, दिल की धड़कनें कम हो जाना, आँखों में जलन और आँखों के उपरी भाग/पलकों पर दर्द, कमर में दर्द, बदन की मांसपेशियों और जोड़ों में खिंचाव, सर्दी लगना, बेचैनी, घबराहट, सिर में दर्द इत्यादि डेंगू के संभावित लाक्षणिक संकेत हैं।

प्लेटलेट्स घटना : डेंगू के कारण पीड़ित व्यक्ति के शरीर से प्लेटलेट्स की मात्रा निरंतर घटती चली जाती है, जिसके दुष्परिणामस्वरूप शरीर के अन्दर रक्त का प्रवाह होने लगता है। ऐसी स्थिति में रोगी की मौत हो सकती है।डेंगू के इलाज के लिए एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति में इसके सफल इलाज हेतु प्लेटलेट्स चढ़ानी होती है, लेकिन सभी अस्पतालों में यह सुविधा संभव नही है। साथ ही यह काफी खर्चीला उपचार है।

प्लेटलेट्स सेल क्या है?

प्लेटलेट्स सेल फ़्रैगमेन्ट्स होते हैं जिनके कारण रक्त का थक्का जमता है और इसीलिए ये खतरनाक रक्तस्त्राव को रोकने के लिए ज़रूरी होती हैं। जब हमें कहीं चोट लग जाये या शरीर का कोई अंग कट जाये या अंगुली कट जाने पर या नाक से निकलने वाला रक्त बहना बंद हो जाए तो समझ लीजिये कि प्लेटलेट्स सेल्स काम कर रही हैं। ये कोशिकाएं खून (Blood) में पाई जाती हैं, जहाँ ये आपस में एक—दूसरे से बंधी हुई होती हैं और इस प्रकार हमारे शरीर में प्रवाहित होते हुए रक्त के बाहर निकलने के मार्ग को नियंत्रित करती हैं।

वैज्ञानिकों के अनुसार प्लेटलेट्स हमारे खून (Blood) में सिर्फ 10 दिन तक ही जीवित रहती हैं। इसलिए इनकी पुनः पूर्ती की ज़रूरत लगातार बनी रहती है। एक औसत स्वस्थ व्यक्ति के प्रति माइक्रो लीटर रक्त में 1,50,000 से 4,50,000 तक प्लेटलेट्स पाई जाती हैं। अगर किसी रोगी की प्लेटलेट्स की संख्या या प्लेटलेट्स काउंट 150 है, तो इसका मतलब है कि प्रति माइक्रोलीटर रक्त में 150000 प्लेटलेट्स हैं।

प्लेटलेट्स को बढ़ाने वाले खाद्य-पदार्थ :

प्रोटीन
अनार
विटामिन K से भरपूर खाद्य पदार्थ
विटामिन A से भरपूर खाद्य-पदार्थ
दूध
फोलेट युक्त भोजन
पपीता

तत्काल क्या करें?
किसी भी योग्य डॉक्टर या किसी भी चिकित्सा पद्धति के प्रति दुराग्रह पाले बिना डेंगू का तुरंत उपचार लेने में संकोच नहीं करें। यदि सम्भव हो तो किसी दक्ष योगी की देखरेख में प्राणायाम भी ​किये जा सकते हैं।

आयुर्वेद/हर्बल उपचार : नोट : दवाई का सेवन करने से पहले रोगी की स्थिति के बारे में किसी योग्य चिकित्सक की राय ले सकें तो बेहतर होगा।

आर्थिक तंगी के कारण या अन्य किसी कारण से यदि कोई उपचार उपल्ब्ध नहीं हो तो निम्न नुस्खा/काढा आजमाया जा सकता है :—

1. गिलोय (गुरूची) की डाली—3 इंच।
2. घरेलु तुलसी के पत्ते—2
3. काली तुलसी के पत्ते—5
4. पुराना गुड़—30 ग्राम
5. भूमि/भूई आंवला पंचांग—10 ग्राम
6. पपीता का एक पत्ता।
7. सोंठ—10 ग्राम।
8. अजवायन—5 ग्राम।
9. काली मिर्च—5 नग।
10. तेज पत्ता—5 ग्राम।

उक्त सभी को कूट—पीसकर आधा लीटर पानी में पकावें, जब एक चौथाई/125 मिली रह जाये तो काढे को छानकर नवाया—नवाया/कुनकुना रोगी को पिलावें।

परिणाम : उक्त काढे को सुबह—शाम पिलाने से अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं।

अन्त में यह और करें : उक्त के अलावा रोगी को सुबह खाली पेट घृतकुमारी/एलोवीरा का 20—25 ग्राम रस और दिन में एक—दो बार नारियल पानी भी पिलाते रहें। रोगी को हर घंटे में पोष्टिक खाना खिलाते रहें। इस सबसे भी प्लेटलेट्स तेजी से बढने में मदद मिलगी।

परामर्श हेतु
सेवासुत डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
मो. एवं वाट्स एप नम्बर : 9875066111

1 comment:

Disha Nirdesh said...

चिकनगुनिया एक संक्रमण

चिकनगुनिया एक संक्रमण है जो चिकनगुनिया वायरस के कारण होता है। बुखार और जोड़ों के दर्द इसके लक्षण में शामिल हैं। ये बीमारी आमतौर पर दो से बारह दिनों तक संक्रमण के बाद रहती है। अन्य लक्षणों में सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, संधियों में सूजन, और शरीर पर दाने शामिल हो सकते हैं। अधिकांश लोगों एक सप्ताह के भीतर इस बीमारी से आराम पा लेते हैं; हालांकि, कभी कभी जोड़ों के दर्द महीनों परेशान कर सकते हैं।