Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.3.11

समर्पण मैं का



चलो ढूंढते हैं
उस एक पल को
जहाँ से शुरू हुआ था विलय
हमारे मैं का
ना तो ये किसी व्यवसाय का विलयन हें
न किन्ही दो राष्ट्र का
हवा ने खुशबु को समेटा
या सुगंध समा गई सुरभि में
समर्पण मैं का था 
जाने किस छोटे से पल की करामात हें ।
रब के सामने मैं खड़ा था
और खुशिया तुम्हारे लिए मांग रहा था।

4 comments:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

Bahut Sunder....

Khare A said...

behtreen abhivyakti bandhu

Rajesh said...

धन्यवाद /

Rajesh Sharma said...

प्रस्तुति सराहने के लिए धन्यवाद /