Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

26.11.09

रास्ते के कष्टों से मुक्ति हेतु मनौती मांगते है यहां ......सत्यनारायण मंदिर, रायवाला, उत्तराखण्ड


   उत्तराखण्ड में हरिद्वार से ऋषिकेश आते हुए रास्ते में बहुत से मनमोहक स्थान पडते है ,पर्यटक व यात्री इन्हे गाडियों सफर करते हुए ध्यान से देख नही पाते प्राचीनकाल में जब तीर्थ यात्री पूर्ण रीतियों से यात्रा करते थे तब तीर्थ यात्री रात को रूकते थे ओर रास्ते के कष्टों से मनौतियां मागते हुए अपनी यात्रा जारी रखते थे।
तीर्थ यात्रा करने वाले यात्री भारत वर्ष के दूरस्थ इलाकों से प्राचीन काल से ही आते है यही सबसे महत्वपूर्ण बद्रीनाथ जाने वाले मार्ग रहा है इन्ही यात्राओं के दौरान लगभग पांच :छ मील की दूरी पर जल इत्यादि की व्यवस्था होती थी वहां पडाव योग्य स्थान होते थे यही चट्टियां कहलाती थी पर आधुनिक पर्यटन ने तीर्थाटन की दशा व दिशा दोनो ही बदल दी है यह पहले से अधिक सुविधाजनक हो गया है । 


        तीर्थ यात्रा की  ऎसी ही एक प्रथम चट्टी रायवाला में है जहां सत्यनारायण मंदिर है।यहां का वातावरण एकदम शान्त है ।उत्तराखण्ड में विष्णु व शिव दोनो के समान रूप से अनुयायी है ,अमरकोष में विष्णु के  पर्यायवाची नामों के मिलने से और पन्द्रहवी शती ये भक्ति काल की आवेगमयी धाराओं के मिलने से ज्ञात होता है कि इसी समय सत्यनारायण की पूजा व महत्ता का व्यापक प्रचार व प्रसार हुआ था ।हिन्दुओ में कष्टों से मुक्ति के लिए भगवान विष्णु की पूजा व अर्चना का विशेष महत्व है। 

इस मंदिर में प्रतिष्ठत विष्णु व लक्ष्मी की संगमरमर की प्रतिमा दर्शनीय है ।  विष्णु की यह मूर्तियां  चतुविर्शतिमूर्ति: ध्रुवपेर मूर्तियों के अर्न्तगत आती है, गढवाल में विष्णु की इस रूप की प्रतिमा का प्रचलन है  जिसमें उनका रूप पदम,गदा,चक्र और शंखक्रम से प्रदर्शित है ।मंदिर परिसर में विष्णु लक्ष्मी के वाहन गरूड की प्रतिमा अन्यत्र मंदिर बना कर स्थापित की गयी है। गरूड की प्रतिमा नमस्कार की मुद्रा में सफेद संगमरमर की काल नेत्रों वाली है। जिस स्थान पर गरूड मंदिर है पहले वहां चार कुण्ड हुआ करते थे । प्रवेश द्वार के बायी ओर लघु मंदिर में शिवलिंग की स्थापना की गयी है जिससे शैव व वैष्णव दोनो के समान रूप से श्रद्वालु होने का भाव मिलता है।
    इस सत्यनारायण मंदिर का महत्व यात्राकालीन पडाव के रूप में व मनौती मांगने के लिए तो है ही साथ ही यह सिद्व स्थल भी है।जो यात्री समयभाव के कारण दर्शन नही कर पाते वह मन ही मन में यात्रा के कष्टों के निवारण हेतु मनौती मांग लेते है । प्रत्येक पूर्णमासी के दिन इस सिद्वपीठ में सत्यनारायण की कथा होती है मंदिर में वैष्णव प्रतिवर्ष भंडारे का आयोजन करवाते है । प्रथम चटृटी व सिद्व पीठ होने के कारण सत्यनारायण मंदिर में यात्री,श्रद्वालु उत्तराखण्ड में  सदियों से  चली आ रही परम्परा का निर्वहन  करते हुए भगवान विष्णु के दर्शन करते है ।  
                                                               _________________
सुनीता शर्मा
स्वतंत्र पत्रकार
ऋषि केश, उत्तराखण्ड




(सभी चित्र अनूप खत्री द्वारा )

2 comments:

मनोज कुमार said...

अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

निर्मला कपिला said...

इस अच्छी जानकारी के लोये धन्यवाद। जायेंगे कभी