Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

23.3.09

हिन्दुत्व

मे हिन्दू हूँ इस बात मे कोई शक नहीं पर इसके लिए क्या हिन्दुत्व की बात करना जरूरी है बिना हिन्दुत्व के हम हिन्दू नहीं हो सकते है या हिन्दुत्व का मतलब मालेगाँव जैसा कुछ करना है एक बात मेरी समझ मे नहीं आती है की बिना हिन्दुत्व के हम हिन्दू नहीं है मे पूछता कितने लोगो ने बाबरी मस्जिद को तोडा यह सब मे इसलिए आप लोगो से पूछ रहा हूँ क्योंकि अभी २ दिन पहले मेरे दोस्त मुझसे बोला की तुम कांग्रेसी हो मैंने पुछा कैसे तो वोह बोला तुम हिन्दुत्व का मतलब नहीं समझते हो मैंने पुछा क्या मतलब है भाई बोला सब को मिटा दो जो हमसे टकराए मैंने कहा हर चीज का शंतिपूर्क तरीका होता है इसी पर वोह बोला तुम हिन्दू नहीं हो मेरा मानना सिर्फ इतना है गलत काम गलत होता है चाहे वोह हिन्दू करे या कोई और मैंने पुछा क्या हिन्दुत्व को मलेगोव् जैसा हमला करना चाहिए तो महाशय बोले उसमे सिर्फ चार आदमी ही मरे थे अगर आप लोगो को मेरी इस बात से बुरा लगा हो तो मे छमा प्रथि पर कोई मुझे हिन्दुत्व का मतलब बता सके तो मुझ पर आपकी बहुत कृपा होगी

12 comments:

Anonymous said...

aap hindu ho hi nahi shakte hindu ka matlab shanskar hota he aasaram baystha ka palan hi hinduta he

वरुण कुमार सखाजी said...

स्थूल जगत में सूक्ष्म को पहचानना ही हिन्दू है.. दुनिया में कहीं हिन्दू नाम का धर्म नहीं है साथी ये एक जीवन शैली है जो हर धर्म का मूल है ये इतना बड़ा विषय है कि आपको ब्लॉग पर लिखना मुश्किल होगा अपने हिन्दू(इन्सान) होने से शर्म मत करो ना कभी इन छोटी बातों में उलझो मालेगांव अभी तक प्रूब नहीं हुआ उसे बतौर उदाहरण लेकर हिन्दू को नीचा दिखाने की कोशिश करते हो तो जान लो ये मामला राजनैतिक दुराभावों से जुड़ा है कहीं से कहीं तक इसमें सच्चाई नहीं है...मेरे भटके साथी हिन्दू हो तो अपने आप पर गर्व करो नहीं हो तो हिन्दू बनने के प्रयास करो और तब तक हिन्दू नहीं बन जाते आप जो कुछ भी हो वो होने पर अफसोस करो ध्यान रहे सिर्फ क्रिसचियन और मुस्लिम छोड़ कर सभी हिन्दू हैं..ज़्यादा खुजली हो तो फोन करो या मिलो....वरुण के.सखाजी, ज़ी24घंटे,छत्तीसगढ़ आर्सन मोटर्स फर्स्ट फ्लोर लोधीपारा रायपुर छत्तीसगढ़ 01.....संपर्कः-09009986179

स्वच्छ संदेश: हिन्दोस्तान की आवाज़ said...

is sambandh men mera lekh http://swachchhsandesh.blogspot.compar paden, lekh ka naam hai "haan, main hindu hoon!"

Suresh jaipal said...

Yeh ek gali hai,jo muglon ne bharat ke mulniwasion ko hindu kahkar di thi...

काशिफ़ आरिफ़/Kashif Arif said...

हिन्दु ना कोई गाली है और ना कोई धर्म!

जब मुगल तथा दुसरे लोग हिन्दुस्तान आये थे तो उन्होने हिन्दुस्तान में रहने वाले लोगो को "हिन्दु" कहा था...

vikas said...

hmara dhrm subse purana hai ye ajadi bhi hmare hi desh me hai ki jo aapne khi sheeri man se darkhast krta hoo kisi ki bhavnaon ko ahat mat kijiye kyo ki hmara to dhrm hi ye hai jeeyo or jeene do

vikas said...

hiiii

inder said...

jaisa ki shri krishna ne geeta me kaha hai
dharm to santan hai
sampraday naye he

isaliye hindutva to sanatna he yah brahmand ke shuru se hai
ise kisi ek paigambar ya raja ya vyakti ne nahi banaya he

yah har shristi ki rachana ke samaya hota he .

santan use kahate he na kabhi shuru hota he . ya aise kah sakate ho ki pahale se tha aaj he aur sada rahega .

sampradaya to aate jaate rahate he aaj yah kal aur koi hoga
dharm nahi badalata

inder said...

jaisa ki shri krishna ne geeta me kaha hai
dharm to santan hai
sampraday naye he

isaliye hindutva to sanatna he yah brahmand ke shuru se hai
ise kisi ek paigambar ya raja ya vyakti ne nahi banaya he

yah har shristi ki rachana ke samaya hota he .

santan use kahate he na kabhi shuru hota he . ya aise kah sakate ho ki pahale se tha aaj he aur sada rahega .

sampradaya to aate jaate rahate he aaj yah kal aur koi hoga
dharm nahi badalata

Tilak Khore said...

A

Tilak Khore said...

A

Anonymous said...

Abey lwde... Tab hamare desh ka nam Hindustan kaise tha...?