Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

31.12.07

वर्ष 2008 मंगलमय हो


जीने का पूरा ''आन्नद'' ही जीवन की सम्‍पूर्ण परिपूर्णता है,जो अपने सामान्‍य क्रियाकलापों को ध्‍यानपूर्वक सम्‍पादित करके सदैव प्राप्त किया जा सकता है ।
सभी भड़सियों तथा सबसे बडे भडासी (यशवंत भाई ) को आंग्ल नव वर्ष 2008 की प्रथम सुबह पर लाखो लाख हार्दिक शुभकामनाये

शशिकान्‍त अवस्‍थी
कानपुर

1 comment:

Unknown said...

बहुत बढ़िया. नववर्ष की आपको ढेरो शुभकामना