Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.8.10

कलेक्टर म न रे गा का वाहन तत्काल छोड़े

अखिलेश उपाध्याय


कटनी जिला कलेक्टर एम् सेल्वेंद्रम से यह अपेक्षा है की म न रे गा मद से उनके पास जो टाटा सफारी वाहन है उसे वे तत्काल छोड़ दे तथा इस वाहन का जो अनाधिकृत रूप से उन्होंने इस्तेमाल किया है उसके एवज में उसके डीजल व अन्य मद तथा भुगतान किये गए किराये की राशी को वे अपने वेतन से सरकारी खजाने में जमा करे. मुख्यमंत्री द्वारा ईमानदार कलेक्टर का जो प्रमाणपत्र उन्हें दिया गया है उस कथन की रक्षा के लिए यह परम आवश्यक है. यह मांग स्वतंत्र पत्रकार सामाजिक कार्यकर्त्ता एवं संस्क्रतिधर्मी नन्दलाल सिंह ने करी है.


अपनी विज्ञप्ति में उन्होंने कहा की गत 20 अगस्त 2010 को भोपाल के मंत्रालय में प्रदेश के संभागायुक्तो एवं पुलिस महानिरीक्षको की बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा था की अहिकतर कलेक्टर राज्य सरकार द्वारा उपलब्द्ध कराये गए वाहन से नहीं सरकारी एवं अन्य बड़ी गाडियो में कांच बंद कर घूमते है जिससे उनको पता ही नही चलता की गाँव की वास्तविकता क्या है. सफारी व अन्य गाडिया म न रे गा व अन्य मदों से खरीदी जा रही है. इस पर रोक लगनी चाहिए. श्री सिंह ने कहा की उन्हें सूचना के अधिकार के अंतर्गत जिला पंचायत कटनी से जो जानकारी प्राप्त हुई है उसके अनुसार म न रे गा में वाहन में किराये पर लेने के जो नियमावली राज्य शासन ने बनाई है उस नियम एवं प्रक्रिया का उल्लघन कर वाहन किराये पर लगाए जा रहा है.

क्या है निर्देश
सचिव मध्य प्रदेश शासन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा दिनांक 29 फरवरी 2008 को जारी आदेश के विन्दु क्रमांक 4 में कहा गया है की ग्रामीण क्षेत्र में पर्यवेक्षक की द्रष्टि से गैर लक्जरी नान ऐ सी श्रेणी के वाहन को किराए पर लिए जावेगा. इस आदेश में यह कहा गया है की इस वाहन का मासिक किराया बारह हजार रूपये प्रति माह निर्धारित किया गया है. इससे अधिक किराया की स्थिति में जिला पंचायत से स्वीकृति सेनी होगी.


वर्तमान कलेक्टर एम् सेल्वेंद्रम जो वाहन इस्तेमाल कर रहे है वह टाटा सफारी है. यह वाहन लक्जरी एवं ऐ सी दोनों है. यह शासन के निर्देशों का स्पष्ट उल्लघन है. इस वाहन का किराया सत्रह हजार रूपये प्रति माह है. इस वाहन के मालिक प्रदीप कुमार, वर्मा ट्रेवल्स बजाज चोक छिदवाडा है. इस वाहन का किराया मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी जिला पंचायत कटनी द्वारा किया जाता है.

2 comments:

ASHUTOSH VERMA said...

nice story

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

बढ़िया प्रस्तुति.