Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.12.10

भारत का स्वाभिमान लिखूं

आ मैं एक नया गान लिखूं
भारत का स्वाभिमान लिखूं

चाणक्य का ऐलान
चंद्रगुप की शान लिखूं

अशोक का गौरव
बुद्ध का निर्वाण लिखूं

मुसलामानों की होली
हिन्दू का रमजान लिखूं

आ मैं एक नया गान लिखूं
भारत का स्वाभिमान लिखूं
 
Desh Ratna ji dwara facebook par likhi kavita

6 comments:

SANJEEV RANA said...

bahut khoob

vandan gupta said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (30/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
http://charchamanch.uchcharan.com

Er. सत्यम शिवम said...

bahut khoob .....sundar...

दर्पण से परिचय

Unknown said...

vandana ji...abhi tak charcha manch ke baare me jyada samajh me nahi aaya..waha hamari post to hoti hai but uski charcha kaha hoti hai yah samajhna baaki hai

Kailash Sharma said...

बहुत प्रेरक..बहुत सुन्दर भाव .नववर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

Unknown said...

aapko bhi sir ji@ aap sabhi ko navwarsh haardik mangal may ho