Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.3.08

यशवन्त दादा और अंकित का शुक्रिया

सबसे पहले जय भडास और सभी भडासी दोस्तो को मेरा नमस्कार. यशवन्त दादा और अंकित का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं कि उनके प्रयास से मैं भडास पर पोस्ट कर पा रहा हूं।
दरअसल पिछले काफ़ी समय से अपने मन का गुबार निकालना चाहता था भडास पर, लेकिन अब लगता है कि मन की मुराद पूरी होगी।
और भविष्य में आप सभी भडासियों के अच्छे अच्छे लेख और ब्लाग्स पढने को मिलेंगे।
आपका भडासी भाई
खालिद हसन
टेलिविज़न पत्रकार
सहारनपुर

6 comments:

गौरव मिश्रा (वाराणसी) said...

khalid bhai kya baat hai akhir aa hi gaye .......... jay bhadas

हरे प्रकाश उपाध्याय said...

khalid bhaee badhaee....swagt hai..

dilip dugar said...

congrats khalid on becomin bhadasi.

अंकित माथुर said...

खालिद भाई, आपकी आमद पर मै भडास
संचालक मंडल एवं समस्त भडासियों की ओर से आपका स्वागत करता हूं।
उम्मीद है कि आप अपनी रचनाओं एवं लेखों से
भडास को नये आयामों तक पहुंचाने में सक्रिय
योगदान देंगे।
जय भड़ास
अंकित माथुर

Anonymous said...

aapka hardik swagat hai khalid bhai jaan.

डा०रूपेश श्रीवास्तव said...

अस्सलाम अलैकुम जनाब खालिद साहब, उम्मीद है कि जल्द से जल्द आपके गुबार के गुब्बारे भड़ास के आसमान पर दिखेंगे । जब तक नये गुब्बारे फुलायें तब तक जो पहले के फुलाए रखें हों उन्हें तो छोड़ दीजिए । हम बांहें फैला कर आपका तहेदिल से इस्तकबाल करते हैं आइये और हममें घुस जाइये
ही ही ही
जय जय भड़ास